abhivainjana


Click here for Myspace Layouts

Followers

Saturday, 3 May 2014

दीवार


दीवार

आसमां  में कोई सरहद नहीं

फिर धरती को क्यों बाँटा है

ये तो हम और तुम हैं ,जिन्होंने

दिलों को भी दीवार से पाटा है

कहीं नफ़्रत की तो कहीं अहं की

आओ इस दीवार को गिरा कर देखें

कि दिल कितना बड़ा होता है 

*****
महेश्वरी कनेरी

20 comments:

  1. बहुत सुन्दर विचार !

    ReplyDelete
  2. आकाश जितना बड़ा...

    ReplyDelete
  3. बहुत ही सुन्दर विचार , काश यह दीवारें जल्द ही गिर जाएँ

    ReplyDelete
  4. अनंत जैसा है दिल..

    ReplyDelete
  5. bahut sundar baat kahi aapne ....!

    ReplyDelete
  6. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन विश्व हास्य दिवस - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  7. अभी आसमान पर इंसान के नापाक कदम नहीं पड़े हैं शायद इसीलिये आसमान बचा है बँटने से. ईश्वर आपकी प्रार्थना सुन ले यही कामना है! दिल की पुरानी परिभाषा कि सिमटे तो दिले आशिक़ - फैले तो ज़माना है, सही हो सके!!
    बहुत ही अच्छी प्रस्तुति!!

    ReplyDelete
  8. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल सोमवार (05-05-2014) को "मुजरिम हैं पेट के" (चर्चा मंच-1603) पर भी होगी!
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार शास्त्री जी..

      Delete
  9. बहुत सुन्दर बात कही......

    ReplyDelete
  10. दीवारें हटने पर दिल भी आसमान जैसा विस्तार पालेंगे । बहुत अच्छा भाव और वैसी ही अच्छी कविता ।

    ReplyDelete
  11. बहुत ही सुंदर विचार, शुभकामनाएं.

    रामराम.

    ReplyDelete


  12. आओ इस दीवार को गिरा कर देखें
    कि दिल कितना बड़ा होता है

    वाह ! वाऽह…!

    बहुत सुंदर !

    मंगलकामनाओं सहित...

    ReplyDelete
  13. दीवारें टूटें तो धरती भी आसमान की तरह एकसार हो जायेगी। सुंदर प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  14. जब ये दीवार गिर जायगी ... सब एक हो जायेंगे ... आसमान से ...
    भावपूर्ण ...

    ReplyDelete
  15. काश ये दीवारें टूट सकें !
    और दिल से दिल मिल सके
    बहुत ही सुन्दर
    सादर !

    ReplyDelete
  16. waah dil kitna bada hotaa hain

    ReplyDelete