abhivainjana


Click here for Myspace Layouts

Followers

Tuesday, 21 January 2014

खोटा सिक्का





खोटा सिक्का

चले थे खुद को भुनवाने

दुनिया के इस बाजार में.

पर खोटा सिक्का मान

ठुकरा दिया ज़माने ने

सोचा ! मुझमें ही कमी थी

या, फिर वक्त का साथ था

समझ पाये ,और चुप रह गए

पर चैन आया

और चल पडे

दुनिया को जानने

देखा ! तो जाना ,

दुनिया कितनी अजीब है

झूठ,मक्कारी और खुदगर्ज़ी

के पलड़े में हर रोज

इंसान यहाँ तुल रहा

पलड़ा जितना भारी

इंसान उतना ही ऊँचा

किन्तु....

मेरे पास तुलने के लिए

कुछ था

इसलिए नकारा गया

खोटा सिक्का जान

ठुकराया गया

पर खुश हूँ मैं

दुनिया के इस झूठ

और मक्कार भरे

बाजार में

मुझे नहीं बिकना

मैं खोटा ही

ठीक हूँ ….



                                                             महेश्वरी कनेरी

19 comments:

  1. खोटेपन ने बाज़ारी खेल से तो बचाया..... बड़ी सीख लिए है रचना

    ReplyDelete
  2. वाह...बेहद सटीक....
    बहुत सुन्दर रचना..

    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  3. बहुत सुंदर.... !
    प्रेरणात्मक कविता..!

    ReplyDelete
  4. आपकी इस प्रस्तुति को आज की सीमान्त गांधी और ब्लॉग बुलेटिन में शामिल किया गया है। कृपया एक बार आकर हमारा मान ज़रूर बढ़ाएं,,, सादर .... आभार।।

    ReplyDelete
  5. कल 23/01/2014 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    धन्यवाद !

    ReplyDelete
  6. सटीक ... दुनिया ऐसी ही है .. जो मकार, चालबाज नहीं उसको खोता कह के ठुकराया जाता है ...

    ReplyDelete
  7. खोटे में खोटा तो अच्छा ही हुआ।

    ReplyDelete
  8. ईमानदारी की यही कीमत है आज
    सार्थक रचना, सादर !

    ReplyDelete
  9. सार्थक भाव लिए बहुत ही सुंदर रचना ....

    ReplyDelete
  10. सही कहा इस खोटी दुनिया में खोटा होना ही ठीक है |

    ReplyDelete
  11. बहुत सुन्दर और सटीक अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  12. -प्रभावशाली
    बहुत सुंदर---!!!!!

    ReplyDelete
  13. शुरू से ही सुनते आए हैं की वक़्त पड़ने पर खोटा सिक्का ही काम आता है

    ReplyDelete
  14. मैं खोटा ही ठीक हूँ ….बिलकुल..

    ReplyDelete
  15. गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाये

    ReplyDelete
  16. सुन्दर और सटीक रचना...
    :-)

    ReplyDelete