abhivainjana


Click here for Myspace Layouts

Followers

Tuesday, 2 July 2013

त्रासदी की वो रात…

केदारनाथ

त्रासदी की वो रात

भयानक खौफनाक मंज़र

विनाश का अद्भूद सैलाब

देखते ही देखते सब तबाह होगया

क्रूर काल के हाथों सब स्वाह होगया

चीखते चिल्लाते हजारों जिन्दगी जलमग्न हुई

ले डूबा हजारों ख्वाहिशें, हजारों ख्वाब

गाँव के गाँव बह गए

दुकान, मकान,घर,बस्तियाँ

सब मलवे का ढेर बन कर रह गए

दम तोड़ गई कितनी की चाहते,

कितनों के सपने….

जहाँ चारों पहर भक्तों की भीड़,

मुखरित होता शंख नाद ,

घंटियों की टनटनाहट

जय-जयकार का मधुर स्वर गूँजता

आज वहाँ मातम ही मातम

अब तो उम्मीद भी लाशों की ढेर पर बैठी

आँसू बहा रही है..

किसकी नज़र लग गई ,

मेरे उत्तराखंड़ को

जो खण्ड-खण्ड हो गया

डरे हुए हर मन के भीतर

आज कई अनबुझ से प्रश्न

उलझ कर रह गए..

ऐसा क्यों हुआ..?????


****************

महेश्वरी कनेरी

28 comments:

  1. ऐसा क्यों हुआ..?????
    !!

    ReplyDelete
  2. Replies
    1. बेहद सुन्दर प्रस्तुतीकरण ....!
      आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि की चर्चा कल बुधवार (03-07-2013) के .. जीवन के भिन्न भिन्न रूप ..... तुझ पर ही वारेंगे हम .!! चर्चा मंच अंक-1295 पर भी होगी!
      सादर...!
      शशि पुरवार

      Delete
    2. आभार शशि जी..

      Delete
  3. इसलिए हुआ क्योंकि प्रकृति खुद से छेड़ छाड़ बर्दाश्त नहीं कर सकती। यह सब हम इन्सानों के किये का ही फल है।


    सादर

    ReplyDelete
  4. बढिया प्रस्तुति
    प्रकृति का प्रकोप


    जल समाधि दे दो ऐसे मुख्यमंत्री को
    http://tvstationlive.blogspot.in/2013/07/blog-post_1.html?showComment=1372774138029#c7426725659784374865

    ReplyDelete
  5. इस प्रकृति की त्रासदी के शिकार मेरे पड़ोसी रामकृष्ण गुप्ता और उसके बहन बहनोई हो गए,,,

    RECENT POST: जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनायें.

    ReplyDelete


  6. सार्थक और सुंदर अनुभूति
    सादर

    जीवन बचा हुआ है अभी---------

    ReplyDelete
  7. प्रलय का सजीव चित्रण कर दिया है .... यही प्रश्न सबके मन में बार बार उठ रहा है ।

    ReplyDelete
  8. त्रासदी की वो रात... भयानक मंजर.. ऐसा क्यों .

    ReplyDelete

  9. इंसान जब तक प्रकृति से सीख नहीं लेता तब तक यह त्तासदी होती रहेगी
    latest post मेरी माँ ने कहा !
    latest post झुमझुम कर तू बरस जा बादल।।(बाल कविता )

    ReplyDelete
  10. किसको मालूम था,उस रात उफनती, वह
    नदीं, देखते देखते ऊपर से, गुज़र जायेगी !

    कैसे मिल पाएंगे ?जो लोग,खो गए घर से,
    मां को,समझाने में ही,उम्र गुज़र जायेंगी !

    ReplyDelete
  11. मार्मिक
    सटीक भाव शुद्ध प्रवाह
    सुन्दर प्रस्तुति-
    आपका आभार आदरणीया -

    ReplyDelete
    Replies

    1. आभार आपका-
      नियमित होने की कोशिश चल रही है-
      सादर

      Delete
  12. वाह.सुन्दर.बहुत बहुत बधाई...

    ReplyDelete
  13. बहुत मार्मिक अभिव्यक्ति....

    ReplyDelete
  14. इस क्यों का उत्तर कोई नहीं जानता..एक रहस्य है यह सृष्टि..

    ReplyDelete
  15. ऐसा क्यों हुआ ... इसका उतर इन्सान के पास ही है ...
    अपनी भूख पे काबू रखना होगा उसे ...

    ReplyDelete
  16. इस क्यों का कोई क्या जवाब दे :-(

    ReplyDelete
  17. मार्मिक वर्णन
    यहाँ भी पधारे

    http://shoryamalik.blogspot.in/2013/07/blog-post_3.html

    http://shoryamalik.blogspot.in/2013/06/blog-post_21.html

    ReplyDelete
  18. किसकी नज़र लग गई ,

    मेरे उत्तराखंड़ को

    जो खण्ड-खण्ड हो गया

    डरे हुए हर मन के भीतर

    आज कई अनबुझ से प्रश्न

    उलझ कर रह गए..

    ऐसा क्यों हुआ..?????

    किसकी नज़र लग गई ,

    मेरे उत्तराखंड़ को

    जो खण्ड-खण्ड हो गया

    डरे हुए हर मन के भीतर

    आज कई अनबुझ से प्रश्न

    उलझ कर रह गए..

    ऐसा क्यों हुआ..?????
    कुछ अपना किया धरा कुछ मालिक की मेहरबानी

    ReplyDelete
  19. उचित सवाल. अगर यह बात सच है की पूर्व सूचना थी और कुछ किया जा सकता था तो ये बहुत ही दुखद है.

    ReplyDelete
  20. प्रकर्ति की इस त्रासदी का जवाब शायद किसी के पास नहीं....

    ReplyDelete
  21. प्रलय का सजीव चित्रण कर दिया है आपने ....पर ऐसा क्यों हुआ..? सवाल बना हुआ है अभी

    ReplyDelete
  22. deforestation and dams are the cause.

    ReplyDelete
  23. प्रकृति के साथ किये गये छेडछाड़ पर पर्दा डाले हुए है आपका ये "क्यों".
    मानता हूँ कि मार्मिक रहा है पर सच्चाई यही है।

    ReplyDelete