abhivainjana


Click here for Myspace Layouts

Followers

Monday, 29 July 2013

बहुत याद आते हैं…


मिट्टी से लिपा चुल्हा

चुल्हे में सुलगती लकड़ियाँ

उसकी आँच में सिकी हुई

माँ के हाथों की

 गरम रोटियाँ

बहुत याद आते हैं..वो दिन

हाँड़ी में पकती हुई दाल

सिलबट्टे में पीसे ताजे

मसालों की खुशबू

बेसब्री से करते

खाने का इंतजार

बहुत याद आते हैं.. वो दिन

गर्मियों में

खुले आसमान के नीचे

छत पर सोना

किस्से कहानियों का दौर

चाँद तारों को देखते देखते

मीठे सपनों में खोजाना

बहुत याद आते हैं.. वो दिन

बेफिक्र, मन मौजी से

अपनी ही दुनिया में रहना

कभी जिद्द कभी मनमानी करना

देर रात तक

छुप-छुप नावेल पढ़ना

बहुत याद आते हैं.. वो दिन

**************


महेश्वरी कनेरी

37 comments:

  1. wakai bahut yaad aate hain ..sacchi mein yaad a gayi padhte padhte isko sundar yaade

    ReplyDelete
  2. बहुत सुंदर रचना
    क्या बात

    ReplyDelete
  3. सही में कितने सुहाने होते थे वो दिन
    बहुत कुछ स्मरण हो आया
    सादर!

    ReplyDelete
  4. एक एक शब्द उन दिनों की याद दिलाती
    गहन भाव लिए बहुत सुंदर रचना और अभिव्यक्ति .......!!

    ReplyDelete
  5. सुन्दर प्रस्तुति ....!!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल मंगलवार (30-07-2013) को में” "शम्मा सारी रात जली" (चर्चा मंच-अंकः1322) पर भी होगी!
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार ..आप का शास्त्री जी

      Delete
  6. वो भी क्या दिन थे? आपकी रचना पढकर वो मिट्टी के चूल्हे की सौधी महक आने लग गई.

    रामराम.
    दो और दो पांच का खेल, ताऊ, रामप्यारी और सतीश सक्सेना के बीच

    ReplyDelete
  7. बस यादें रह जाती है...

    ReplyDelete
  8. आपने बचपन याद दिला दिया , बहुत शुभकामनाये

    ReplyDelete
  9. यह यादें ही जीवन हैं ...
    सुंदर रचना , बधाई आपको ! !

    ReplyDelete
  10. सच में हमको भी बहुत याद आते हैं आते हैं वो दिन …
    अब तो माँ भी नहीं बनाती लेकिन चूल्हे पर रोटियां :)

    ReplyDelete
  11. सचमुच अनमोल हैं वो दिन

    ReplyDelete
  12. बहुत सुंदर पोस्ट
    सच में बहुत याद आते हैं .... वो दिन
    आभार आप का
    सादर

    ReplyDelete
  13. बहुत सुंदर पोस्ट
    सच में बहुत याद आते हैं .... वो दिन
    आभार आप का
    सादर

    ReplyDelete
  14. वो दिन जितने अच्छे थे..क्यों न इन दिनों को उनसे बेहतर बना लें...कुछ वर्षों बाद फिर इनके भी गीत बना लें

    ReplyDelete
  15. बीत गए वो दिन बीत गए
    केवल यादों में वो रह गए --बहुत सुन्दर भाव युक्त रचना !
    latest post हमारे नेताजी
    latest postअनुभूति : वर्षा ऋतु

    ReplyDelete
  16. जीवन के मौलिक सुखों में शामिल रहे हैं, ये सब क्षण। सुन्दर अभिव्यक्ति।

    ReplyDelete
  17. आदरणीया, कविता को पढ़कर मन झूम गया.और भी बहुत कुछ याद आ गया...मिट्टी के बर्तन में पका दूध, चूल्हे की आग में भुने हुए आलू, अंगारों पर सिंकी अंगाकर रोटी (नये चाँवल के आटे की मोटी रोटी),चूल्हे की राख से कंडील के काँच को साफ करना,सूखी लकड़ियों और कंडों का स्टोर रूम, बरसात में भीगी लकड़ियों से गुँगवाता धुँआ, धुँए को चीरती हुई फूँकनी.....वाह !!!!! कितने सुनहरे दिन थे....

    ReplyDelete
  18. बिलकुल आपने सब बचपन की बातें याद करवा दी अब शहर में यह सब कहाँ
    वाकई अरुण निगम जी ने खूब कहा और भी बहुत कुछ याद आ गया

    ReplyDelete
  19. behad khoobsurat yade jinhe bar bar yad karne ko ji chahe...

    ReplyDelete
  20. 'सिलबट्टे पर पिसे मसलों की सुगंध' ...बीते दिनों की महक देती है यह कविता..

    ReplyDelete
  21. याद आना स्वाभाविक भी है।


    सादर

    ReplyDelete
  22. बहुत ही प्यारी रचना.
    सुन्दर...:-)

    ReplyDelete
  23. सच कहा बीते पल बहुत याद आते हैं

    ReplyDelete
  24. बहुत खूब !
    चूल्हा और सिलबट्टा कभी
    मैने भी कहीं देखा था
    याद दिलाया आपने
    तो याद आया !

    ReplyDelete
  25. बहुत ही सुन्दर…….शहरो में ये सब चीजें जैसे कहीं खो गयी हैं |

    ReplyDelete
  26. बहुत अच्छी लगी आपकी कविता

    ReplyDelete
  27. उन दिनों से डोर बंधी रहे .. !

    ReplyDelete
  28. सच बहुत याद आते हैं वो दिन....
    मगर क्यूँ न ज़रा सी कोशिश की जाय और फिर से जिया जाय उन दिनों को....
    क्या मुश्किल है सिल पर मसाले पीसना या खुली छत पर तारे गिनते सोना :-)

    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  29. waah ..Awesome ! Nostalgia overpowering me.

    ReplyDelete
  30. वह सहज-सुन्दर जीवन सदा को बीत गया ,प्रकृति के तालमेल में जिये गए दिन अब कहाँ!

    ReplyDelete
  31. कुछ पुरानी यादों को सुलगा दिया है आपने ... वो लम्हे जाते नहीं जेहन से ...

    ReplyDelete
  32. कल 18/09/2013 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  33. took me back to a "past" time, feeling nostalgic and over whelmed.

    ReplyDelete