abhivainjana


Click here for Myspace Layouts

Followers

Monday, 2 July 2012

मेरे घनश्याम सलोने

मेरे घनश्याम सलोने

अवतरित हुए तुम आज
मेरे घनश्याम सलोने
अँजली भर-भर लाए नीर
तपित हिये की प्यास बुझाने
कब से तरसे व्याकुल
चातक मन अकुलाए
देख हर्षित तरंग उठे
कंपित अधर मुस्काए
धुले कलुष मन आज
भर-भर अश्रु बहाए
करते निर्मल जग को
पतित पावन कहलाए
हर्षित हुआ मन उपवन
आशा के पल्लव जागे
भाव बहे जीवन चले
घनश्याम जब तुम आए
***************
महेश्वरी कनेरी

24 comments:

  1. घनश्याम बरसते जाते-
    मन-गोपी हरसे हरसाते |
    विरह वियोगी काया-
    जग-जीव भीग अब पाते |

    ReplyDelete
  2. वाह! मधर सुन्दर सी प्रस्तुति.
    मन को हर्षाती हुई.
    आभार

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर महेश्वरी जी...

    मनभावन रचना....
    सादर.

    ReplyDelete
  4. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टि की चर्चा कल के चर्चा मंच पर राजेश कुमारी द्वारा की जायेगी आकर चर्चामंच की शोभा बढायें

    ReplyDelete
  5. वाह सुन्दर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  6. bahut sundar mohak rachana..
    sundar;-)

    ReplyDelete
  7. घनश्याम धरा को भी अनुप्राणित करता है...और मन को भी, सुंदर भाव !

    ReplyDelete
  8. बहुत सुंदर रचना
    क्या बात है

    ReplyDelete
  9. बहुत सुन्दर भावमयी रचना...

    ReplyDelete
  10. भावमय करती शब्‍द रचना ... बेहतरीन प्रस्‍तुति।

    ReplyDelete
  11. सुन्दर प्रेमपगी अभिव्यक्ति..अहा..

    ReplyDelete
  12. घनश्याम के आने से मन प्रफुल्लित हो गयाः)...खूबसूरत प्रस्तुति !!!

    ReplyDelete
  13. बहुत सुंदर अभिव्यक्ति.....

    ReplyDelete
  14. सावन आने को है, पर मूसलाधार आरिश का अता-पता नहीं है। फिर भी कुछ छींटों और कुछ बौछारों ने राहत पहुंचाई है।

    ReplyDelete
  15. सुन्दर.....भिगो दिया आपकी रचना ने ......बारिश की कमी पूरी कर दी !

    ReplyDelete
  16. बेहद प्रभावशाली रचना !

    ReplyDelete
  17. बहुत उम्दा भावमयी अभिव्यक्ति,,,सुंदर रचना,,,,

    MY RECENT POST...:चाय....

    ReplyDelete
  18. मेघों के रूप में घन घन करते घनश्याम आए ... भिगोती हुयी रचना ...

    ReplyDelete
  19. बहुत ही सुन्दर रचना बरसते मेघों के साथ

    ReplyDelete
  20. जीवन, भक्ति और प्रेम को इस कविता ने एक कर दिया है. बहुत सुंदर कविता.

    ReplyDelete
  21. सुन्दर रचना.सार्थक प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  22. very impressive creation Maheshwari ji.

    ReplyDelete