abhivainjana


Click here for Myspace Layouts

Followers

Sunday, 30 October 2011

वक्त


   
१-        वक्त सर पर बैठा
      टुकड़े- टुकड़े कर जिन्दगी ले रहा
      कर्ज़ तो चुकानी ही है
      वक्त से जो ली है
      हमने जिन्दगी उधार में

२-       वक्त की बाँहो में जकड़ी है हर सांस
      हर सांस लेते सोचते हैं
      नजाने कौन सी अंतिम लिखी  है..
                  
३-       पहाड़ो में अब बर्फ पिघलने लगा
     घाटियों में फूल खिलने लगे
     हवाओ में खुशबू फैलने  लगी
     नदियों में पानी बहने लगा
     लेकिन बीते वक्त का दर्द
      महकते फूलों  में आज भी है

                    ४-     पानी के बूँद के गिरने से गूँज सी उठती है
     दबे पाँव चलने से कुछ आहट तो होती  है
     लेकिन मेरे वक्त का एक-एक कतरा गिरा
      मुझे पता भी चला………..
        **********************



39 comments:

  1. वक़्त से यूं वक़्त-बेवक्त की मुलाक़ात भी खूब रही. वक़्त के चारों टुकड़े अच्छे लगे.

    ReplyDelete
  2. वक्त यूँ ही हाथ से फिसलता जाता है ... अंतिम दोनों क्षणिकाएँ बहुत पसंद आयीं

    ReplyDelete
  3. वक़्त के साथ जिन्दगी के ये छोटे छोटे पल ...बेहद खूबसूरत लगे

    ReplyDelete
  4. सभी क्षणिकायें वक़्त को सजीव करती हुई.
    http://mitanigoth2.blogspot.com/

    ReplyDelete
  5. बेहतरीन क्षणिकाएं...... सुंदर शब्द पिरोये हैं.....

    ReplyDelete
  6. समय कहाँ कब संग रहा है.......

    ReplyDelete
  7. कल 01/11/2011को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  8. बेहतरीन प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  9. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति आज के तेताला का आकर्षण बनी है
    तेताला पर अपनी पोस्ट देखियेगा और अपने विचारों से
    अवगत कराइयेगा ।

    http://tetalaa.blogspot.com/

    ReplyDelete
  10. बहुत सुंदर रचना।
    मेरे वक्त का एक एक कतरा गिरा, लेकिन मुझे पता भी नही चला।
    गहन विचार, अच्छी प्रस्तुति

    ReplyDelete
  11. वक्त कब कैसे कितनी जल्दी निकल जाता है पता नही लगता.....
    बहुत अच्छी रचना सुंदर पोस्ट.....

    ReplyDelete
  12. वक्त के दिन और रात ...फिसलते हैं फिसलते हैं ..कोई रोक नहीं पाता

    ReplyDelete
  13. वक्त की बाँहो में जकड़ी है हर सांस
    हर सांस लेते सोचते हैं
    नजाने कौन सी अंतिम लिखी है..

    ...जीवन के शाश्वत सत्य की बहुत सटीक अभिव्यक्ति...सभी क्षणिकाएं बहुत ख़ूबसूरत...

    ReplyDelete
  14. सटीक अभिव्यक्ति
    हरेक पंक्ति बहुत मर्मस्पर्शी है। कविता अच्छी लगी ।

    संजय भास्कर
    आदत....मुस्कुराने की
    पर आपका स्वागत है
    http://sanjaybhaskar.blogspot.com

    ReplyDelete
  15. वाह सुन्दर क्षणिकाएं
    सादर आभार...

    ReplyDelete
  16. वक्त की बाँहो में जकड़ी है हर सांस
    हर सांस लेते सोचते हैं
    नजाने कौन सी अंतिम लिखी है..वाह सुन्दर क्षणिकाएं

    ReplyDelete
  17. दबे पाँव चलने से कुछ आहट तो होती है
    लेकिन मेरे वक्त का एक-एक कतरा गिरा
    मुझे पता भी न चला………..
    बहुत सुन्दर एवं सटीक पंक्तियाँ! वक्त कब गुज़र जाता है पता ही नहीं चलता और बीता हुआ वक़्त कभी लौटकर नहीं आता ! बेहद ख़ूबसूरत रचना!
    मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://seawave-babli.blogspot.com/
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/

    ReplyDelete
  18. वक्त की बाँहो में जकड़ी है हर सांस
    हर सांस लेते सोचते हैं
    नजाने कौन सी अंतिम लिखी है..
    दिल को छू लेने वाली पंक्तियाँ.... :):)
    वक़्त के हर शै पर सब गुलाम
    आदमी को चाहिए वक़्त से डर कर रहे
    जाने कब बदले वक़्त का मिज़ाज

    ReplyDelete
  19. waah...
    waqt ko yun ginna, kitna suhawna hai...
    behad hi sundar rachit rachna...

    ReplyDelete
  20. वाह ! वक्त के मिजाज को परखती हुईं सुंदर पंक्तियाँ दिल को छू गयीं बहुत गहराई से उपजी पंक्तियाँ!

    ReplyDelete
  21. बहुत सुंदर ...
    शुभकामनायें आपको !

    ReplyDelete
  22. बेहतरीन क्षणिकाएं अर्थपूर्ण, अच्छी लगी ...

    ReplyDelete
  23. कर्ज़ तो चुकानी ही है
    वक्त से जो ली है
    हमने जिन्दगी उधार में.बहुत सुंदर.

    ReplyDelete
  24. ४- पानी के बूँद के गिरने से गूँज सी उठती है
    दबे पाँव चलने से कुछ आहट तो होती है
    लेकिन मेरे वक्त का एक-एक कतरा गिरा
    मुझे पता भी न चला…बेहतरीन भाव कणिकाएं .आभार .

    ReplyDelete
  25. लाजवाब ....बहुत ही सुन्दर रचना.

    ReplyDelete
  26. लेकिन मेरे वक्त का एक-एक कतरा गिरा
    मुझे पता भी न चला………..
    **********************
    haan bilkul aisa hi hua......

    ReplyDelete
  27. सजीव लिखा अजहि चारों क्षणिकाओं में ... जीवन का अनुभव ...

    ReplyDelete
  28. बहुत ही खूबसूरत एवं अर्थपूर्ण क्षणिकायें हैं सभी ! वक्त कब कैसे चुपचाप बीतता चला जाता है और वर्तमान के हर पल को अतीत बनाता चला जाता है पता ही नहीं चलता ! आपके ब्लॉग पर आकर अद्भुत सुखानुभूति हुई है ! साभार !

    ReplyDelete
  29. मेरी नई पोस्ट पर स्वागत है,/////

    ReplyDelete
  30. खुदा ने लिख रखे हैं 'वक्त' सबके नाम के, बस लिखा कितना किसके लिए.. यही नहीं पता. यही सच है, नहीं पता इसीलिए जिज्ञासा है..आनंद हैं.

    बहुत सुन्दर रचना आपकी..

    मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है..
    www.belovedlife-santosh.blogspot.com

    ReplyDelete
  31. •आपकी किसी पोस्ट की हलचल है ...कल शनिवार (५-११-११)को नयी-पुरानी हलचल पर ......कृपया पधारें और अपने अमूल्य विचार ज़रूर दें .....!!!धन्यवाद.

    ReplyDelete
  32. बहुत ही खुबसुरत.रचना ...

    ReplyDelete
  33. सभी लघु कविताएं गहन भावों को अभिव्यक्त कर रही हैं।

    ReplyDelete
  34. sabhi kavitaayen bahut gahre bhaav liye hue hai, badhai.

    ReplyDelete
  35. बेहद सुन्दर क्षणिकाएं!

    ReplyDelete
  36. जीवन का सारा अनुभव उंढेल दिया इन क्षणिकाओं में. बहुत सुंदर प्रस्तुति.

    बधाई.

    ReplyDelete
  37. सच ही तो है
    वक़्त को भला कौन मुट्ठी में बाँध पाया है
    वक्त की फ़ित्रत को सँवारती , सुलझाती हुई
    बहुत अच्छी रचना ... !
    अभिवादन .

    ReplyDelete
  38. पानी के बूँद के गिरने से गूँज सी उठती है
    दबे पाँव चलने से कुछ आहट तो होती है
    लेकिन मेरे वक्त का एक-एक कतरा गिरा
    मुझे पता भी न चला………... nihshabd

    ReplyDelete
  39. बेहतरीन अभिव्यक्ति .....मेरा वक़्त कतरा कतरा गिरा और मुझे पता भी न चला ..बहुत सुन्दर पंक्तियाँ

    ReplyDelete