abhivainjana


Click here for Myspace Layouts

Followers

Tuesday, 25 October 2011

दीया


दीया एक शरीर है, बाती उसकी आत्मा , तेल ,धड़कता हुआ दिल  । जिस दिन तेल खत्म होजाए यानी दिल धड़कना बंद कर दे..उस दिन बाती रुपी आत्मा कहीं विलीन हो जायेगी | बस ये नश्वर दीया रूपी शरीर फिर मिट्टी की मिट्टी…

मैं स्वयं जल कर लोगों को उजाला बाँटती हूँ.. फिर भी जब लोग कहते हैं ‘दीया तले अँधेरा”
मैं समझ नहीं पाती , सच में उन्हें मुझ से सहानुभूति है या फिर मेरी बेबसी का मजाक उड़ाते हैं ….

बेटा माँ से पूछता है ..माँ रात को सूरज क्यों छिप जाता है ?
माँ- बेटा ! जगमगाते दीये की सुन्दर शीतल रौशनी से शर्माता है शायद ,इसीलिए छिप जाता है ।

**********



30 comments:

  1. सार्थक रचना, सुन्दर प्रस्तुति के लिए बधाई स्वीकारें.

    समय- समय पर मिली आपकी प्रतिक्रियाओं , शुभकामनाओं, मार्गदर्शन और समर्थन का आभारी हूँ.

    "शुभ दीपावली"
    ==========
    मंगलमय हो शुभ 'ज्योति पर्व ; जीवन पथ हो बाधा विहीन.
    परिजन, प्रियजन का मिले स्नेह, घर आयें नित खुशियाँ नवीन.
    -एस . एन. शुक्ल

    ReplyDelete
  2. बहुत ही अच्छी बात काही आपने।
    ----
    आपको सपरिवार दीपावली की हार्दिक शुभ कामनाएँ!

    सादर

    ReplyDelete
  3. आपकी रचना बहुत सुंदर सार्थक,खूब लिखा...तेल धड़कता हुआ दिल है,तेल खत्म धड़कन बंद,....इस पोस्ट के लिए बधाई,समय समय सहयोग समर्थन प्रतिक्रियाए देने का आभार ....

    सपरिवार दीपपर्व की मंगलकामनाए......

    ReplyDelete
  4. ।सार्थक चिन्तन्……………आपको और आपके परिवार को दीपोत्सव की हार्दिक शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  5. दीपावली की हार्दिक शुभ कामनाएँ!

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर भाव...दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  7. सुन्दर प्रस्तुति
    आपको और आपके प्रियजनों को दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें….!

    संजय भास्कर
    आदत....मुस्कुराने की
    http://sanjaybhaskar.blogspot.com

    ReplyDelete
  8. सुन्दर विचारों के साथ ही सुन्दर प्रस्तुति ...
    दीवाली की शुभकामनाएँ

    ReplyDelete
  9. वाह! बहुत सुन्दर चिंतन है आपका.
    दीपावली के पावन पर्व की हार्दिक शुभकामनाएँ.

    ReplyDelete
  10. शुभकामनाएं--

    रचो रँगोली लाभ-शुभ, जले दिवाली दीप |
    माँ लक्ष्मी का आगमन, घर-आँगन रख लीप ||
    घर-आँगन रख लीप, करो स्वागत तैयारी |
    लेखक-कवि मजदूर, कृषक, नौकर, व्यापारी
    नहीं खेलना ताश, नशे की छोडो टोली |
    दो बच्चों का साथ, रचो मिल सभी रँगोली ||

    ReplyDelete
  11. सार्थक बातें .... दीपोत्सव की शुभकामनायें

    ReplyDelete
  12. बहुत सुन्दर और सटीक बातें ...दीपावली की शुभकामनायें

    ReplyDelete
  13. चर्चा मंच परिवार की ओर से दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएँ!
    आइए आप भी हमारे साथ आज के चर्चा मंच पर दीपावली मनाइए!

    ReplyDelete
  14. बहुत सुंदर प्रस्‍तुति ..
    .. आपको दीपोत्‍सव की शुभकामनाएं !!

    ReplyDelete
  15. ज्योति पर्व की बहुत -२ बधाईयाँ , सुन्दरसृजन को , सम्मान ....मंगलमय हो दीपावली ../

    ReplyDelete
  16. सबके मन का अन्धतम मिटे, सबका जीवन सफल हो।

    ReplyDelete
  17. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  18. प्रेरणादायक विचार . सुंदर प्रस्तुतिकरण .आपको सपरिवार दीपावली की हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं .

    ReplyDelete
  19. सत्य वचन. माटी का चोला और माटी का दीपक.
    दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं .

    ReplyDelete
  20. सुन्दर चिंतन!
    शुभ दीपावली!

    ReplyDelete
  21. सार्थक पोस्ट... शुभ दिवाली....

    ReplyDelete
  22. सुंदर प्रस्‍त‍ुति।

    आप को भी दीपों के इस पावन पर्व पर हार्दिक शुभकामनायें।

    *दीवाली *गोवर्धनपूजा *भाईदूज *बधाइयां ! मंगलकामनाएं !

    ईश्वर ; आपको तथा आपके परिवारजनों को ,तथा मित्रों को ढेर सारी खुशियाँ दे.

    माता लक्ष्मी , आपको धन-धान्य से खुश रखे .

    यही मंगलकामना मैं और मेरा परिवार आपके लिए करता है!!

    ReplyDelete
  23. बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति!
    दीवाली, गोवर्धनपूजा और भैया दूज की हार्दिक शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  24. बहुत सुंदर और सत्य कथ्य ! शुभ दीपावली !

    ReplyDelete
  25. सुंदर विचार।
    शुभ दीपावली।

    ReplyDelete
  26. दीपावली की हार्दिक बधाई........

    ReplyDelete