abhivainjana


Click here for Myspace Layouts

Followers

Sunday, 16 October 2011

खामोशी

खामोशी


एक दिन ..
खामोशी से  ऊब कर मैंने पूछा
तुम इतनी खामोश कैसे रह लेती हो
तुम्हारा कोई संगी साथी नहीं है.?
उसने धीरे से कहा ..हैं..न..
उदासी और अकेलापन..
मैंने समझाते हुए फिर कहा..
तुम इनके साथ सारी जिन्दगी
कैसे गुजार सकती हो..?
बाहर निकलो, और दुनिया देखो
सब तरफ रिश्तों की भीड़ लगी हैं
अहसासों का बाजा़र सजा है
जो चाहो  पा सकती हो……..
कुछ सोच … उसने पूछा
क्या मुझे वहाँ शान्ति और सूकून
भी मिल सकता हैं..???
********

48 comments:

  1. भीड़ में खो जाती शान्ति।

    ReplyDelete
  2. बाहर देखो लेकिन बाजार छोड देना

    ReplyDelete
  3. बेहद मर्मस्पर्शी रचना है।

    ReplyDelete
  4. कुछ सोच … उसने पूछा
    क्या मुझे वहाँ शान्ति और सूकून
    भी मिल सकता हैं..???
    niruttar ker diya n

    ReplyDelete
  5. बेहतरीन कविता।

    -----
    कल 18/10/2011 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  6. कुछ सोच … उसने पूछा
    क्या मुझे वहाँ शान्ति और सूकून
    भी मिल सकता हैं..???बहुत ही खूबसूरती से मन की उलझन को शब्दों में उतरा है आपने....

    ReplyDelete
  7. सुन्दर प्रस्तुति |
    बधाई स्वीकारें ||

    ReplyDelete
  8. कुछ सोच … उसने पूछा
    क्या मुझे वहाँ शान्ति और सूकून
    भी मिल सकता हैं..???
    ******** bhaut hi miskil ka utar dena...

    ReplyDelete
  9. शान्ति और सूकून......ये दोनों अगर मिल पायें ......
    बेहद ख़ूबसूरत लिखा है !

    ReplyDelete
  10. अंतत: खामोशी ने मौन कर दिया ... वाह बहुत खूब ।

    ReplyDelete
  11. ख़ामोशी की अलग ही दुनिया है, अपनी दुनिया... सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  12. जहाँ उदासी और अकेलापन है वहाँ भी क्या शांति और सुकून मिल सकता है?

    ReplyDelete
  13. वाह..दुनिया में सब कुछ खरीदा जा सकता है शांति और सुकून के सिवा क्यूँ के ये बाहर नहीं हमारे भीतर मिलता है...

    नीरज

    ReplyDelete
  14. सोच को नयी दिशा देती हुई रचना..

    ReplyDelete
  15. सुकून की तलाश में ही खुद में सिमट रहा है आदमी।

    ReplyDelete
  16. सच दुनिया में शांति और सुकून कही से भी नहीं मिल सकता है यह हमारे भीतर ही है..........

    ReplyDelete
  17. क्या मुझे वहाँ शान्ति और सूकून
    भी मिल सकता हैं..???

    बहुत सुंदर...सच है इस भीड़ में शांति और सुकून कहाँ .... ?

    ReplyDelete
  18. बाहर निकलो, और दुनिया देखो
    सब तरफ रिश्तों की भीड़ लगी हैं
    अहसासों का बाजा़र सजा है
    जो चाहो पा सकती हो……..
    sunder bhav pr uska prash bhi sahi hai
    क्या मुझे वहाँ शान्ति और सूकून
    भी मिल सकता हैं..???
    saader
    rachana

    ReplyDelete
  19. gahari soch liye apki kavita ...bahut badhiya

    ReplyDelete
  20. शांति की तलाश तो मानव का अंतर्मन करता ही रहेगा. बहुत सुंदर कविता.

    ReplyDelete
  21. बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  22. ..उदासी और अकेलापन....
    यही तो है जो वक्क्त-बेव्क्क्त साथ देने को तत्पर रहते है..
    बहुत बढ़िया रचना...
    आभार!

    ReplyDelete
  23. माहेश्वरी जी सुन्दर रचना ख़ामोशी .उदासी अकेलापन बहुत करीब है अपने हैं रंग बदल कर साथ देते रहते हैं सुकून शांति भी बाजार में सब कहाँ ?
    धन्यवाद सुंदर कृति
    भ्रमर ५

    ReplyDelete
  24. भावपूर्ण अभिव्यक्ति |
    आशा

    ReplyDelete
  25. खामोशी का यक्ष प्रश्न ...अच्छी प्रस्तुति

    ReplyDelete
  26. क्या मुझे वहाँ शान्ति और सूकून
    भी मिल सकता हैं..???

    ...निशब्द कर दिया...बहुत संवेदनशील प्रस्तुति..

    ReplyDelete
  27. बहुत ही सुन्दर कविता दीपावली की शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  28. बहुत सुन्दर ! लाजवाब प्रस्तुती!
    मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://seawave-babli.blogspot.com/
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/

    ReplyDelete
  29. कुछ सोच … उसने पूछा
    क्या मुझे वहाँ शान्ति और सूकून
    भी मिल सकता हैं..???
    .........gahan manobhavon ki sahaj-saral prastuti
    .............ati sundar.

    ReplyDelete
  30. बहुत सुन्दर प्रस्तुति ||
    मेरी बधाई स्वीकार करें ||

    ReplyDelete
  31. बिल्कुल सही..
    जीवन के इस भागमभाग में सबके पास सबकुछ होते हुए भी वो उसका नहीं है, क्योंकि शुकून और शांति के बिना सबकुछ निरर्थक जो है।

    ReplyDelete
  32. sahi kaha rishton kee bheed mein sukoon kahaan milta. gahri abhivyakti, badhai.

    ReplyDelete
  33. aapki ye post padh kar ek bahut purana sher yaad aa gaya...

    duniyan me kahin sacchi preet nahi..
    aansuon se badh kar koi meet nahi..
    chaahe ji bhar kar rulate hain aansu..
    dukh me to sath nibhate hain aansu.

    ReplyDelete
  34. वाकई नहीं मिल पा रहा ....
    रिश्तों में सब कुछ है ...गर्माहट ही नहीं है !
    शुभकामनायें आपको !

    ReplyDelete
  35. सुकून शायद अपने आप तक पहुँच कर ही मिल सकता है....बहुत सुन्दर प्रश्न रखा है आपने

    ReplyDelete
  36. इन प्रश्‍नों में छुपे हैं गहन चिंतन. धन्‍यवाद.

    ReplyDelete
  37. महेश्वरी जी.....आपकी कुछ रचनाएं मैंने पढ़ी....और और पढते जाने का ऐसा लालच पहले कभी नहीं हुआ.बहुत ही सुन्दर ब्लॉग के लिए आपको बधाई..मेरी कविता पर आपकी प्रशंसा अब और भली लगने लगी :-)आशा है आगे भी आपका मार्गदर्शन और प्रोत्साहन मिलता रहेगा.

    ReplyDelete
  38. शान्ति तो क्नामोश रह कर ही मिल सकती है ... अच्छी रचना है ...

    ReplyDelete
  39. बहुत सटीक चिंतन .. अच्‍छी अभिव्‍यक्ति !!

    ReplyDelete
  40. सकून के दाम बहुत ऊँचे हो गए हैं आजकल,लेकिन फिर भी इसकी तलाश कभी कम नहीं होगी ....सुंदर रचना !

    ReplyDelete
  41. Nice post.
    Bloggers Meet Weekly 14 ke liye chayanit ki gayee hai .

    ReplyDelete
  42. अहसासों का बाजा़र सजा है
    जो चाहो पा सकती हो..
    कुछ सोच , उसने पूछा
    क्या मुझे वहाँ शान्ति और सूकून
    भी मिल सकता हैं..???

    बहुत अच्छी कविता।
    शांति और सुकून को तो अपने भीतर ही तलाशना होगा।

    ReplyDelete
  43. चुप तुम रहो, चुप हम रहें ...

    ReplyDelete
  44. बहुत खूब.
    दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं..

    ReplyDelete
  45. आपको एवं आपके परिवार के सभी सदस्य को दिवाली की हार्दिक बधाइयाँ और शुभकामनायें !
    मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://seawave-babli.blogspot.com/
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/

    ReplyDelete
  46. बेटी बचाओ - दीवाली मनाओ.
    दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  47. दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  48. बेहद ख़ूबसूरत लिखा है !

    ReplyDelete