abhivainjana


Click here for Myspace Layouts

Followers

Wednesday, 9 November 2011

कुछ साँस बची है जीने को...



कुछ साँस बची है जीने को

कुछ साँस बची है जीने को ,जी भर मुझ को जीने दो
ह्रदय तार के स्पंदन को ,आज मुझे तुम सुनने दो
            टूटे बिखरे सपनों को मैं
सहेज रही थी जीवन भर
आशा की इस बगिया में
दो बूँद बारिश का गिरने दो
कुछ साँस बची है जीने को ,जी भर मुझ को जीने दो
ह्रदय तार के स्पंदन को ,आज मुझे तुम सुनने दो
जीवन सागर के इन लहरों में
उफान भरा, तूफा़न भरा था
थक कर  खामोश हुए अब
             इस खामोशी को सुनने दो
कुछ साँस बची है जीने को,जी भर मुझ को जीने दो
ह्रदय तार के स्पंदन को ,आज मुझे तुम सुनने दो
      मुट्ठी में भरी   रेत सी
    फिसल रही अब जिन्दगी
    क्या खोया क्या पाया मैंने
    आज इसे  बस रहने दो 
कुछ साँस बची है जीने को,जी भर मुझ को जीने दो
ह्रदय तार के स्पंदन को ,आज मुझे तुम सुनने दो
  पत्थर के  निर्मोही जग में
  प्यार का  अहसास  नहीं है
  पल-पल पीया है आँसू मैंने
    आज इसे तुम बहने दो
कुछ साँस बची है जीने को ,जी भर मुझ को जीने दो
ह्रदय तार के स्पंदन को ,आज मुझे तुम सुनने दो
          **************

40 comments:

  1. पत्थर के निर्मोही जग में
    प्यार का अहसास नहीं है
    पल-पल पीया है आँसू मैंने
    आज इसे तुम बहने दो ...

    बहुत खूब ... इस स्वार्थी जग की रीत को बाखूबी लिखा है आपने ...

    ReplyDelete
  2. पत्थर के निर्मोही जग में
    प्यार का अहसास नहीं है
    पल-पल पीया है आँसू मैंने
    आज इसे तुम बहने दो
    jag ki reet darshata katu satya sunderata se bayan kiya hai ....

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर आग्रह है...
    भावपूर्ण अभिव्यक्ति महेश्वरी जी..
    बधाई.

    ReplyDelete
  4. सुन्दर अभिव्यक्ति!

    ReplyDelete
  5. पत्थर के निर्मोही जग में
    प्यार का अहसास नहीं है
    पल-पल पीया है आँसू मैंने
    आज इसे तुम बहने दो... aaj mujhe tum jeene do

    ReplyDelete
  6. ह्रदय तार के स्पंदन को
    आज मुझे तुम सुनने दो,
    खूबसूरत रचना सुंदर पोस्ट,.... बधाई |

    ReplyDelete
  7. क्या खोया क्या पाया मैंने
    आज इसे बस रहने दो

    बस अब यही तमन्ना है।
    बहुत अच्छी कविता रची है आंटी।

    सादर

    ReplyDelete
  8. जिन्दगी को जीने की आस ......मन को भा गई ....शब्दों से मन को छू लेने वाली कृति

    ReplyDelete
  9. जीवन को जीने के लिये पूरा आसमान मिले।

    ReplyDelete
  10. पत्थर के निर्मोही जग में
    प्यार का अहसास नहीं है
    पल-पल पीया है आँसू मैंने
    आज इसे तुम बहने दो

    ....बहुत भावपूर्ण और मर्मस्पर्शी अभिव्यक्ति...बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  11. बहुत खूब, सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  12. जीवन सागर के इन लहरों में
    उफान भरा, तूफा़न भरा था
    थक कर खामोश हुए अब
    इस खामोशी को सुनने दो
    जीवन का यतार्थ बयां करती एक मार्मिक कविता. बहुत सुन्दर.... आभार !

    ReplyDelete
  13. गहरे भावोँ को शब्द की आवाज बख्शी है,बढ़िया प्रस्तुति ।

    ReplyDelete
  14. गहन भाव..... सच जीवन कितने सुख दुःख के रंग लिए होता ...ज़रा ठहर कर उन्हें देखें तो.....जियें तो ...

    ReplyDelete
  15. जीवन सागर के इन लहरों में
    उफान भरा, तूफा़न भरा था
    थक कर खामोश हुए अब
    इस खामोशी को सुनने दो..

    मन के संवेदनशील भावों को कहती अच्छी रचना

    ReplyDelete
  16. अच्छी प्रस्तुति

    ReplyDelete
  17. कुछ साँस बची है जीने को ,जी भर मुझ को जीने दो
    ह्रदय तार के स्पंदन को ,आज मुझे तुम सुनने दो...बहुत ही सार्थक भावो से भरपूर्ण.....

    ReplyDelete
  18. आपकी पोस्ट आज के चर्चा मंच पर प्रस्तुत की गई है
    कृपया पधारें
    चर्चा मंच-694:चर्चाकार-दिलबाग विर्क

    ReplyDelete
  19. आज 10 - 11 - 2011 को आपकी पोस्ट की चर्चा यहाँ भी है .....


    ...आज के कुछ खास चिट्ठे ...आपकी नज़र .तेताला पर
    ____________________________________

    ReplyDelete
  20. पत्थर के निर्मोही जग में
    प्यार का अहसास नहीं है
    पल-पल पीया है आँसू मैंने
    आज इसे तुम बहने दो
    कुछ साँस बची है जीने को ,जी भर मुझ को जीने दो
    ह्रदय तार के स्पंदन को ,आज मुझे तुम सुनने दो………………………………………………मन के भावो का बहुत भावपूर्ण चित्रण्।

    ReplyDelete
  21. बहुत सुन्दर भावाभिव्यक्ति , बधाई.

    ReplyDelete
  22. बहुत सुन्दर भावपूर्ण अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  23. aapki ye rachna padhke, ek gana yaad aa raha hai... "ye jeevan hai, is jeevan ka yahi hai, yahi hai, yahi hai ran-roop..."

    ReplyDelete
  24. सुन्दर भाव लिए हुए खुबसूरत पंक्तियाँ ..

    ReplyDelete
  25. बहुत सुन्दर भावपूर्ण रचना..
    सादर बधाई...

    ReplyDelete
  26. ek ek pankti jeewan ke anubhav aur dhoop-chhav ko darsha rahi hai.

    sunder shabd shaili ne is abhivyakti ko anmol sunderta pradan ki hai.

    ReplyDelete
  27. कुछ साँस बची है जीने को ,जी भर मुझ को जीने दो
    ह्रदय तार के स्पंदन को ,आज मुझे तुम सुनने दो
    बहुत सुन्दर पंक्तियों का संयोजन
    शुभकामनाएं!

    ReplyDelete
  28. जीवन सागर के इन लहरों में
    उफान भरा, तूफा़न भरा था
    थक कर खामोश हुए अब
    इस खामोशी को सुनने दो

    एक एक पंक्ति जीवनानुभवों को गहरे से व्यक्त कर रही है ...आभार इस सुन्दर रचना के लिए

    ReplyDelete
  29. भावपूर्ण अभिव्यक्ति.
    बधाई.

    ReplyDelete
  30. बहुत ही भावमय करते शब्‍दों का संगम ।

    ReplyDelete
  31. पत्थर के निर्मोही जग में
    प्यार का अहसास नहीं है
    पल-पल पीया है आँसू मैंने
    आज इसे तुम बहने दो

    जग की यही रीत है, उसका निर्मोही होना ही सही है।
    अच्छी कविता।

    ReplyDelete
  32. वाह, बहुत सुंदर रचना
    क्या कहने

    पत्थर के निर्मोही जग में
    प्यार का अहसास नहीं है
    पल-पल पीया है आँसू मैंने
    आज इसे तुम बहने दो

    बहुत खूब

    ReplyDelete
  33. कुछ साँस बची है जीने को ,जी भर मुझ को जीने दो
    ह्रदय तार के स्पंदन को ,आज मुझे तुम सुनने दो.

    बहुत खूबसूरत रचना. संवेदनशील और मार्मिक.

    ReplyDelete
  34. मुट्ठी में भरी रेत सी
    फिसल रही अब जिन्दगी
    क्या खोया क्या पाया मैंने
    आज इसे बस रहने दो ...
    सटीक लिखा है आपने! दिल को छू गई ये पंक्तियाँ!
    बेहद ख़ूबसूरत और भावपूर्ण रचना ! बधाई!

    ReplyDelete
  35. .

    कुछ साँस बची है जीने को,जी भर मुझ को जीने दो
    ह्रदय तार के स्पंदन को ,आज मुझे तुम सुनने दो
    पत्थर के निर्मोही जग में
    प्यार का अहसास नहीं है
    पल-पल पीया है आँसू मैंने
    आज इसे तुम बहने दो
    कुछ साँस बची है जीने को ,जी भर मुझ को जीने दो
    ह्रदय तार के स्पंदन को ,आज मुझे तुम सुनने ....

    Awesome !

    Very nice creation .

    .

    ReplyDelete
  36. बहुत सुंदर भाव ....

    मुट्ठी में भरी रेत सी
    फिसल रही अब जिन्दगी
    क्या खोया क्या पाया मैंने
    आज इसे बस रहने दो

    बस जब से जागरण हो जाये उसी समय से जीवन बदल जाता है.

    ReplyDelete
  37. टूटे बिखरे सपनों को मैं
    सहेज रही थी जीवन भर
    आशा की इस बगिया में
    दो बूँद बारिश का गिरने दो.very nice.

    ReplyDelete