abhivainjana


Click here for Myspace Layouts

Followers

Thursday, 9 January 2014

सर्दी ने ढाया सितम



ठिठुरती काँपती उँगलियाँ 
 
तैयार नहीं छूने को कलम

कैसे लिखूँ कविता मैं

सर्दी ने ढाया सितम

शब्द मेरे ठिठुरे पड़े हैं

भाव सभी शुन्य हुए हैं

कंठ से स्वर निकलते नहीं

लगता सब जाम हुए हैं

धूप भी किसी भिखारिन सी

 थकी हारी आती है 

कभी कोहरे की चादर ओढे

गुमसुम सो जाती है

गरम चाय, नरम रजाई

अब यही सुखद सपने हैं

कैसे छोड़ूँ इनको अब मैं

लगते यही बस अपने है

घर से बाहर निकले कैसे

दाँत टनाटन बजते है

मौसम की मनमानी देखो

कैसे षड़यंत्र ये रचते हैं


******************

महेश्वरी कनेरी

32 comments:

  1. आपकी यह उत्कृष्ट प्रस्तुति कल शुक्रवार (10.01.2014) को " चली लांघने सप्त सिन्धु मैं (चर्चा -1488)" पर लिंक की गयी है,कृपया पधारे.वहाँ आपका स्वागत है,नव वर्ष की मंगलकामनाएँ,धन्यबाद।

    ReplyDelete
  2. ठंड के मौसम से सजी ठंडी ठंडी सी सुंदर भाव अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  3. बढ़िया प्रस्तुति-
    आभार दीदी-

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर रचना दीदी ......

    ReplyDelete
  5. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन कहीं ठंड आप से घुटना न टिकवा दे - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार.. राजेन्द्र जी

      Delete
  6. गरम चाय, नरम रजाई
    अब यही सुखद सपने हैं
    कैसे छोड़ूँ इनको अब मैं
    लगते यही बस अपने है
    ..बहुत सही मौसम का तकाजा है..

    ReplyDelete
  7. सच मे काफी ठंड है ... बिलकुल सटीक विवरण दिया है आपने :)

    ReplyDelete
  8. सर्दी के मौसम का भी अपना अलग आनंद है :)
    सुन्दर रचना
    सादर!

    ReplyDelete
  9. सच कहा ठण्ड ने ढाया सितम है ! सुन्दर प्रस्तुति
    नई पोस्ट सर्दी का मौसम!
    नई पोस्ट लघु कथा

    ReplyDelete
  10. बहुत सुन्दर रचना...
    :-)

    ReplyDelete
  11. ठिठुरते शब्द
    कलम की आग … लिख लिया न

    ReplyDelete
  12. आपके शब्द अहसास करवा रहे हैं ठंडक का .....

    ReplyDelete
  13. कल 11/01/2014 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  14. सच में दीदी देहरादून में इस बार गज़ब की ठण्ड हैं .सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  15. सर्दी के सितम का बड़ा सटीक सजीव चित्र खींचा है माहेश्वरी जी ! वाकई ठण्ड ने हालत खराब कर दी है ! नर्म रजाई और गरम चाय का प्याला छोडने का मन ही नहीं होता ! बहुत सुंदर रचना !

    ReplyDelete
  16. सच में बहुत ठंड है जी

    ReplyDelete
  17. मौसम की मनमानी देखो
    कैसे षड़यंत्र ये रचते हैं
    इस ठंड के भी अपने ही नये अंदाज हैं जो विस्‍मृत करते रहते हैं .... सच कहा आपने

    ReplyDelete
  18. सर्दी के मौसम का बहुत सुन्दर और जीवंत चित्रण...

    ReplyDelete
  19. आपकी इस ब्लॉग-प्रस्तुति को हिंदी ब्लॉगजगत की सर्वश्रेष्ठ कड़ियाँ (3 से 9 जनवरी, 2014) में शामिल किया गया है। कृपया एक बार आकर हमारा मान ज़रूर बढ़ाएं,,,सादर …. आभार।।

    कृपया "ब्लॉग - चिठ्ठा" के फेसबुक पेज को भी लाइक करें :- ब्लॉग - चिठ्ठा

    ReplyDelete
  20. अब यही सुखद सपने हैं
    कैसे छोड़ूँ इनको अब मैं
    लगते यही बस अपने है
    .............................बहुत सही मौसम

    ReplyDelete
  21. सुन्दर अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  22. सर्दी का यथार्थ वर्णन। पर कलम तो आपने उठा ही ली, शायद इसीने दी गरमाहट।

    ReplyDelete
  23. मौसम चाहे कितना ही सितम ढाये हम कलम उठा ही लेते है !
    आजकल हमारे शहर में भी यही हाल है :)
    सर्दी का सुन्दर चित्रण किया है, आभार आपका !

    ReplyDelete
  24. सर्दी पर काँपती ठिठुरती गर्म गर्म कविता... बधाई.

    ReplyDelete
  25. बहुत सुंदर ....

    ReplyDelete