abhivainjana


Click here for Myspace Layouts

Followers

Wednesday, 2 January 2013

स्वागत नव वर्ष




खुशियों का दीप जला कर,

उम्मीदों की झोली फैला कर

करते स्वागत नव वर्ष तुम्हारा

हर्षदायिनी, मंगलमयी, शुभकारिणी

हो हर चरण तुम्हारा

स्वागत-स्वागत नव वर्ष तुम्हारा

हिम्मत देना ,चाहत देना

देना अथाह शक्ति दान

निज स्वार्थ भूला कर,

कर सकूँ जन कल्याण

नव सृजन का बहे नित धारा

स्वागत-स्वागत नव वर्ष तुम्हारा

स्वप्न न रूठे ,उम्मीद न टूटे

 धरा में नित नव चेतन जागे

प्रेरणा बन बहे हर शब्द मेरे

नव रश्मि गीत बन रहे नित आगे

अंधकार हरे राह बने उजियारा

स्वागत-स्वागत नव वर्ष तुम्हारा

************

महेश्वरी कनेरी

33 comments:

  1. नव वर्ष की समस्त शुभकामनाएं ...

    ReplyDelete
  2. प्रेरणा बन बहे हर शब्द मेरे
    नव रश्मि गीत बन रहे नित आगे .... शुभकामनायें

    ReplyDelete
  3. 'अंधकार हरे राह बने उजियारा'

    नया साल आपको भी शुभ और मंगलमय हो.
    हार्दिक शुभकामनाएँ

    ReplyDelete
  4. मंगलमय नव वर्ष हो, फैले धवल उजास ।
    आस पूर्ण होवें सभी, बढ़े आत्म-विश्वास ।

    बढ़े आत्म-विश्वास, रास सन तेरह आये ।
    शुभ शुभ हो हर घड़ी, जिन्दगी नित मुस्काये ।

    रविकर की कामना, चतुर्दिक प्रेम हर्ष हो ।
    सुख-शान्ति सौहार्द, मंगलमय नव वर्ष हो ।।

    ReplyDelete
  5. हर्षदायिनी, मंगलमयी, शुभकारिणी
    हो हर चरण तुम्हारा
    .. आमीन !!!

    ReplyDelete
  6. हर्षदायिनी, मंगलमयी, शुभकारिणी
    हो हर चरण तुम्हारा
    ऐसा ही हो .... !!

    ReplyDelete
  7. अभी इस राख में चिन्गारियाँ आराम करती हैं - ब्लॉग बुलेटिन आज की ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  8. स्वप्न न रूठे ,उम्मीद न टूटे

    धरा में नित नव चेतन जागे

    बहुत सुंदर कामना...नव वर्ष की शुभकामनाएँ !!

    ReplyDelete
  9. नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएँ आंटी ।


    सादर

    ReplyDelete
  10. नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएँ..........

    ReplyDelete
  11. बहुत प्यारी रचना..
    आपको भी नव वर्ष की शुभकामनाएँ दी...
    अपना स्नेह और आशिर्वाद बनाये रखियेगा.

    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  12. स्वप्न न रूठे ,उम्मीद न टूटे

    धरा में नित नव चेतन जागे

    प्रेरणा बन बहे हर शब्द मेरे

    बहुत ही भावमय प्रेरणादायी मंगल कामना....

    ReplyDelete
  13. बहुत सुंदर कामना...नव वर्ष की शुभकामनाएँ !!

    फुर्सत मिले तो ...मुस्कुराहट पर ज़रूर आईये

    ReplyDelete
  14. नव वर्ष की अशेष शुभकामनाएं ...:)

    ReplyDelete
  15. हिम्मत देना ,चाहत देना
    देना अथाह शक्ति दान
    निज स्वार्थ भुला कर,
    कर सकूँ जन कल्याण

    यह कामना सभी के हृदय में जागे।



    ReplyDelete
  16. नयी उम्मीदों के साथ नववर्ष का स्वागत है

    ReplyDelete
  17. सबको नववर्ष शुभ हो।

    ReplyDelete
  18. बहुत सुंदर...नव वर्ष की बहुत२ शुभकामनाएँ !!

    recent post: किस्मत हिन्दुस्तान की,

    ReplyDelete
  19. आपकी आशा पूरी हो
    मंगलकामनाएं आपको ...

    ReplyDelete
  20. सुंदर एवं प्रेरणात्मक रचना नववर्ष की हार्दिक शुभकामनायें ....

    ReplyDelete
  21. हिम्मत देना ,चाहत देना

    देना अथाह शक्ति दान

    बहुत बहुत शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  22. नए साल की शुभकामनायें ...सादर

    ReplyDelete
  23. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  24. स्वप्न न रूठे ,उम्मीद न टूटे

    धरा में नित नव चेतन जागे

    प्रेरणा बन बहे हर शब्द मेरे

    नव रश्मि गीत बन रहे नित आगे

    अंधकार हरे राह बने उजियारा

    स्वागत-स्वागत नव वर्ष तुम्हारा



    स्वागत आपके स्वप्नों का..वे साकार हों

    ReplyDelete
  25. बहुत सुन्दर...नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  26. नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  27. वाह बहुत सुंदर स्वागत गीत .....

    ReplyDelete
  28. नव रश्मि गीत बन रहे नित आगे

    अंधकार हरे राह बने उजियारा

    स्वागत-स्वागत नव वर्ष तुम्हारा
    sunder geet
    nav varsh mangalmay ho
    rachana

    ReplyDelete
  29. वाह.बेह्तरीन अभिव्यक्ति हैप्पी 2013

    ReplyDelete


  30. ✿♥❀♥❁•*¨✿❀❁•*¨✫♥
    ♥सादर वंदे मातरम् !♥
    ♥✫¨*•❁❀✿¨*•❁♥❀♥✿


    स्वप्न न रूठे ,उम्मीद न टूटे
    धरा में नित नव चेतन जागे
    प्रेरणा बन बहे हर शब्द मेरे
    नव रश्मि गीत बन रहे नित आगे

    अंधकार हरे राह बने उजियारा
    स्वागत-स्वागत नव वर्ष तुम्हारा

    बहुत सुंदर गीत लिखा है आपने ...

    आदरणीया महेश्वरी कनेरी जी
    विगत में जो भी हुआ हो , भविष्य के लिए आशाएं जीवित रहनी चाहिए …

    आपके गीत से मुझे मेरे एक गीत की पंक्तियां याद आ गईं -
    ले आ नया हर्ष , नव वर्ष आ !

    आजा तू मुरली की तान लिये' आ !
    अधरों पर मीठी मुस्कान लिये' आ !
    विगत में जो आहत हुए , क्षत हुए ,
    उन्हीं कंठ हृदयों में गान लिये' आ !



    आपको भी नव वर्ष की शुभकामनाएं !

    ...साथ ही
    हार्दिक मंगलकामनाएं …
    लोहड़ी एवं मकर संक्रांति के शुभ अवसर पर !

    राजेन्द्र स्वर्णकार
    ✿◥◤✿✿◥◤✿◥◤✿✿◥◤✿◥◤✿✿◥◤✿◥◤✿✿◥◤✿

    ReplyDelete