abhivainjana


Click here for Myspace Layouts

Followers

Sunday, 7 October 2012

जीवन के रंग

जीवन के रंग


मन में उमंग
ह्रदय में तरंग
अपनों के संग
यही जीवन के रंग
पुल्कित अंग अंग
न सोच हुई तंग
न विचारों में जंग
न सपने हुए भंग
देख रह गई दंग
सीख गई जीने का ढंग
अगर लेखनी हो संग
भरती रहूँ जीवन में रंग
रंग ही रंग ,रंग ही रंग
****************
महेश्वरी कनेरी

41 comments:

  1. सृजनात्मकता में यही खूबी है कि वह जीवन को जीने का ढंग देती है. बहुत सुंदर रचना.

    ReplyDelete
  2. भरती रहूँ जीवन में रंग

    सुन्दर रचना .........

    ReplyDelete
  3. जीवन में भरती रहे, सदा अनोखे रंग ।

    धन्य धन्य शुभ लेखनी, रहे हमेशा संग ।।

    ReplyDelete
  4. बहुत अच्छी रचना
    सुंदर भाव

    ReplyDelete
  5. रंगों से ही जीवन जीवित है ......

    ReplyDelete
  6. सीख गई जीने का ठंग
    अगर लेखनी हो संग
    भरती रहूँ जीवन में रंग
    रंग ही रंग ,रंग ही रंग.... इन्द्रधनुषी रंग बिखरे हैं

    ReplyDelete
  7. हम भी तो हैं आपके संग
    लेकर हाथों में कूची और रंगः)

    ReplyDelete
  8. उत्कृष्ट सृजन,,यही जीवन के रंग,,,,,,

    RECENT POST: तेरी फितरत के लोग,

    ReplyDelete
  9. बस ऐसे ही रंग भरे रहें।

    ReplyDelete
  10. लेखनी के साथ जीवन के रंग ... बहुत सुंदर अभिव्यक्ति ....


    ठंग --- ढंग

    ReplyDelete
  11. सीख गई जीने का ढंग
    अगर लेखनी हो संग
    भरती रहूँ जीवन में रंग
    रंग ही रंग ,रंग ही रंग
    वाह ! बहुत खूब !!

    ReplyDelete
  12. सुंदर इन्द्रधनुषी अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  13. सत्य कहती सुंदर अभिव्यक्ति ...!!

    ReplyDelete
  14. गाफिल जी अति व्यस्त हैं, हमको गए बताय ।

    उत्तम रचना देख के, चर्चा मंच ले आय ।

    ReplyDelete
  15. जीवन में रंग न हो तो जीवन का आकर्षण समाप्त हो जाता है .ऐसे ही रंग भरते रहिये .

    ReplyDelete
  16. भरती रहूँ जीवन में रंग
    रंग ही रंग ,रंग ही रंग

    आपकी हर तमन्ना पूरी हो आंटी!


    सादर

    ReplyDelete
  17. सीख गई जीने का ढंग
    अगर लेखनी हो संग
    भरती रहूँ जीवन में रंग
    रंग ही रंग ,रंग ही रंग
    वाह वाह अतिसुन्दर रचना भी अपने इन्द्रधनुषी रंग बिखेर रही है

    ReplyDelete
  18. बहुत खुबसूरत रचना अभिवयक्ति.........

    ReplyDelete
  19. भरती रहूँ जीवन में रंग
    रंग ही रंग ,रंग ही रंग... wah ma'am yahi rang jeena sikha dete hain..

    ReplyDelete
  20. बज उठी जल तरंग
    झूमे अंग-प्रत्यंग
    बना रहे सत्संग
    भरें जीवन में रंग........

    शुभकामनायें..........

    ReplyDelete
  21. शुभकामनायें..... ये रंग सदैव जीवंत बने रहें

    ReplyDelete
  22. BEAUTIFUL LINES WITH COLOUR AND LOVE

    ReplyDelete
  23. सुन्दर, उत्कृष्ट! जीवन में रंग भारती कविता..
    सादर
    मधुरेश

    ReplyDelete
  24. मन में उमंग
    ह्रदय में तरंग
    अपनों के संग
    यही जीवन के रंग
    पुल्कित अंग अंग......पुलक से इत प्रत्यय लगाके बना -पुलकित .

    रचना में सारल्य और एक ख़ुशी का दर्शन है .बधाई .

    ReplyDelete
  25. बहुत सुंदर रंग !

    ReplyDelete
  26. रंगों की छटा नित बिखरती रहे ..ऐसी ईश्वर से प्रार्थना है .

    ReplyDelete
  27. बहुत ही सुन्दर उत्कृष्ट रचना..
    जीवन की ये रंगत सदैव बरकरार रहे..
    :-):-) :-)

    ReplyDelete
  28. वाह! बहुत ही सुन्दर रंग भर दिए है आपने.
    संग संग दंग है कनेरी जी.
    आभार.

    ReplyDelete
  29. रंग ही जीवन को सही-सही परिभाषित कर पाते हैं।

    ReplyDelete
  30. सुंदर अभिव्यक्ति..

    ReplyDelete
  31. लेखनी सदा रहे संग
    यूं ही रहे बिखरते
    काव्य के रंग तरंग ।

    ReplyDelete
  32. सीख गई जीने का ढंग
    अगर लेखनी हो संग

    वाह !!!

    ReplyDelete
  33. वाह ...बेहतरीन भाव लिए उत्‍कृष्‍ट अभिव्‍यक्ति ...आभार

    ReplyDelete
  34. यही तो जीने को देते है उमग !

    ReplyDelete
  35. सच में लेखनी का साथ हो तो जीवन में रंग ही रंग है।

    ReplyDelete
  36. जीवन में भरती रहूँ रंग ही रंग |
    बहुत भावपूर्ण प्रस्तुति |
    आशा

    ReplyDelete
  37. बहुत सुन्दर ......कितना सुकून मिलता है लिखने से ......हर व्यथा ..हर दर्द....जैसे बह जाता है ....और केवल सुख का साम्राज्य रह जाता है ...

    ReplyDelete
  38. लेखनी से अच्छा साथी कौन ??
    शुभकामनायें आपको !

    ReplyDelete
  39. वाह...अद्भुत अभिव्यक्ति...बधाई स्वीकारें

    नीरज

    ReplyDelete
  40. वाह।कमाल है।

    ReplyDelete
  41. मन में उमंग
    ह्रदय में तरंग
    अपनों के संग.........भावपूर्ण प्रस्तुति |

    ReplyDelete