abhivainjana


Click here for Myspace Layouts

Followers

Monday, 22 October 2012

ये वक्त भी बदल जाएगा



खामोश है आज चाँदनी भी
खामोश धरती आसमां है
खामोश हैं तारे सभी
खामोश उनका कारवां है
शाख के हर पात खामोश है
खामोश हुए प्रकृति के हर साज़
हवा भी थक कर सो गई अब
खामोश लहरों के गीत आज
बस,खामोश नहीं मेरे मन का शोर
कुछ बैचैन हैं ,परेशान सा
अनबुझ प्रश्नों का सैलाब लिए
उठता है दिल में बस तूफान 
अब तो खामोश हो जा मन मेरे
ये तूफा़न भी टल जायेगा
कल सूरज के आते ही ,देखना
ये वक्त भी बदल जाएगा
************
महेश्वरी कनेरी

40 comments:

  1. हर सवेरा नया होता है...आशा की किरणों के साथ कई तूफ़ान थम जाते हैं|...बहुत अच्छी प्रस्तुति!!

    ReplyDelete
  2. हर ढलता दिन अपने साथ कई ग़मों को और तूफानों को ले जाता है...हर उगता सूरज नया सवेरा लाता है...
    बहुत प्यारी रचना है दी....

    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  3. अब तो खामोश हो जा मन मेरे
    ये तूफा़न भी टल जायेगा
    कल सूरज के आते ही ,देखना
    ये वक्त भी बदल जाएगा
    ऐसा अवश्य होगा दीदी !!
    सादर प्रणाम दीदी :)

    ReplyDelete
  4. nai subah se nayi khushiyan to vakt jarur badlega ...........ham sabhi ko ummid hoti hai

    ReplyDelete
  5. नयी सुबह नयी आशा ले कर आएगी .... सुंदर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  6. अब तो खामोश हो जा मन मेरे
    ये तूफा़न भी टल जायेगा
    कल सूरज के आते ही ,देखना
    ये वक्त भी बदल जाएगा

    आशा भरी सोच को प्रणाम

    ReplyDelete
  7. वेगमयी जो आज आँधियाँ, वो भी एक दिन थक जायेंगी।

    ReplyDelete
  8. स्थायी नहीं है ये ख़ामोशी के बादल छट जायेंगे अगली सुबह के आने तक.......
    सुंदर प्रस्तुति.

    ReplyDelete
  9. सकारात्मक भाव...... जैसा भी हो समय गुजर ही जाता है.....

    ReplyDelete
  10. आशा का संचार करती ... उत्‍कृष्‍ट अभिव्‍यक्ति

    ReplyDelete
  11. तारतम्य सुन्दर बना, सुन्दर सरस प्रवाह |
    रविकर हो खामोश अब, कहे वाह ही वाह ||

    ReplyDelete
  12. उत्कृष्ट प्रस्तुति का लिंक लिंक-लिक्खाड़ पर है ।।

    ReplyDelete
  13. वाकई एक दिन

    ReplyDelete
  14. ये तूफा़न भी टल जायेगा
    कल सूरज के आते ही ,देखना
    ये वक्त भी बदल जाएगा
    आशा का भाव जगाती बेहतरीन अभिव्यक्ति...
    सुन्दर रचना....
    :-)

    ReplyDelete
  15. सकारात्मक सोच लिये बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति..

    ReplyDelete
  16. रात भर का है ..मेहमान अँधेरा ...
    किसके रोके रुका है सवेरा ....
    शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  17. गहरी भाव, सुन्दर प्रबाह के साथ आशावादी दृष्टि कोण का सुन्दर चित्रण .बधाई .दुर्गापूजा एवं दशहरा की शुभकामनाएं .

    ReplyDelete
  18. हर नई प्रातः एक नई सोच ले कर आती है और अतीत को आज बना कर नए रंग भर जाती है. बहुत सुदंर रचना.

    ReplyDelete
  19. अनबुझ प्रश्नों का सैलाब लिए
    उठता है दिल में बस तूफान
    अब तो खामोश हो जा मन मेरे
    ये तूफा़न भी टल जायेगा
    कल सूरज के आते ही ,देखना
    ये वक्त भी बदल जाएगा

    नया सबेरा आएगा नया सन्देशा लाएगा

    ReplyDelete
  20. आशा की लौ को अपने भीतर जलाए रखने का अच्छा संदेश दिया है आंटी।


    सादर

    ReplyDelete
  21. कलकत्ता की दुर्गा पूजा - ब्लॉग बुलेटिन पूरी ब्लॉग बुलेटिन टीम की ओर से आप सब को दुर्गा पूजा की हार्दिक बधाइयाँ और शुभकामनायें ! आज की ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  22. वाकई ...
    यह वक्त भी बदल जाएगा !

    ReplyDelete
  23. रश्मि प्रभा has left a new comment on my post "ये वक्त भी बदल जाएगा":

    कुछ भी एक सा नहीं रहता .... दुःख के दिन भी बदल जाते हैं ... हाँ थोड़ी देर से

    ReplyDelete
  24. सूरज जरुर निकलेगा किसीके रोके नहीं रुकने वाला सवेरा... बहुत सुन्दर आशा जगाती रचना... आभार

    ReplyDelete
  25. अब तो खामोश हो जा मन मेरे
    ये तूफा़न भी टल जायेगा
    कल सूरज के आते ही ,देखना
    ये वक्त भी बदल जाएगा...bilkul sach kaha aapne...

    ReplyDelete
  26. कल सूरज के आते ही ,देखना
    ये वक्त भी बदल जाएगा,,,,,,,,,

    विजयादशमी की हादिक शुभकामनाये,,,
    RECENT POST...: विजयादशमी,,,

    ReplyDelete
  27. अब तो खामोश हो जा मन मेरे
    ये तूफा़न भी टल जायेगा
    कल सूरज के आते ही ,देखना
    ये वक्त भी बदल जाएगा

    भविष्य के प्रति आशान्वित करती सुंदर कविता।

    विजयादशमी की शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  28. बहुत ही अच्छा लिखा है। धन्यवाद।

    ReplyDelete
  29. bahut sundar bhaw .....praval icchashakti ko darshaati rachna ....

    ReplyDelete
  30. अनबुझ प्रश्नों का सैलाब लिए
    उठता है दिल में बस तूफान
    अब तो खामोश हो जा मन मेरे
    ये तूफा़न भी टल जायेगा
    कल सूरज के आते ही ,देखना
    ये वक्त भी बदल जाएगा

    काश ऐसा हो पाता लेकिन यह आसान भी नहीं.

    ReplyDelete
  31. अब तो खामोश हो जा मन मेरे
    ये तूफा़न भी टल जायेगा
    कल सूरज के आते ही ,देखना
    ये वक्त भी बदल जाएगा

    meri post par aapka intzaar hai

    चार दिन ज़िन्दगी के .......
    बस यूँ ही चलते जाना है !!

    ReplyDelete
  32. अनबुझ प्रश्नों का सैलाब लिए
    उठता है दिल में बस तूफान
    अब तो खामोश हो जा मन मेरे
    ये तूफा़न भी टल जायेगा

    bahut prernadayee prabhvshali rachana lgi ......abhar

    ReplyDelete
  33. सकारात्मक सोच लिए बेहतर भाव की कविता।

    ReplyDelete
  34. बहुत सुन्दर ....वाकई !!!

    ReplyDelete
  35. रात भर का है महमान अन्धेरा '
    बहुत भावपूर्ण रचना |
    आशा

    ReplyDelete