abhivainjana


Click here for Myspace Layouts

Followers

Saturday, 9 June 2012

हाथ भर की दूरी


33 comments:

  1. हाइगा बनाईं हैं .... तो हाइकु भी बना देतीं ... :)
    बहुत सुन्दर बना है .... :)
    दिल की गहराई से निकली .... दिल को छू गई .... :)

    ReplyDelete
  2. वाह बहुत खूब ....

    ReplyDelete
  3. बेहतरीन लिखी हैं आंटी।


    सादर

    ReplyDelete
  4. बीते पल कहाँ भूले जाते हैं।

    ReplyDelete
  5. काश यह अहम् न होता ....बहुत सुन्दर महेश्वरी

    ReplyDelete
  6. बहुत सही लिखा है |शिकवे और शिकायत में वह पल बीत गए |
    बीते पल लौट कर नहीं आते |
    आशा

    ReplyDelete
  7. गहन भाव ...बहुत बहुत सुन्दर .. .

    ReplyDelete
  8. ये हाथ भर की दुरी
    बनी उम्र-भर की मजबूरी ......

    ReplyDelete
  9. वाह !!चित्र से साथ कविता बहुत जँच रही है...
    सिर्फ हाथ भर दूर
    फिर भी कितने दूर

    भावपूर्ण रचना !!

    ReplyDelete
  10. कितनी गहरी बात कही है आपने...
    शिकवे शिकायत में हि वो पल भी बीत गये
    शानदार....बहूत हि बढीया....

    ReplyDelete
  11. यही तो बात है। हम सदुपयोग करना कब सीखेंगे --- पल का। हर पल का। खास पल का।

    ReplyDelete
  12. बेहतरीन अभिव्यक्ति की सुंदर रचना,,,,, ,

    MY RECENT POST,,,,काव्यान्जलि ...: ब्याह रचाने के लिये,,,,,

    ReplyDelete
  13. शायद पहले आप, पहले आप में ही जिंदगी के खूबसूरत लम्हे गंवा दिए ।
    ....सुन्दर अभिव्यक्ति। आभार !

    ReplyDelete
  14. यही तो मुश्किल है- समझ बाद में आती है

    ReplyDelete
  15. सिर्फ हाथ भर की दुरी थी..............किसी शायर ने क्या खूब कहा है की -
    ये माना जिन्दगी होती है चार दिन की ,
    बहुत होते हैं यारो ये चार दिन भी..
    सुंदर अभिव्यक्ति........

    ReplyDelete
  16. कुछ शिकवे भी हों, शिकायत भी भी हो मज़ा जीने का और भी आता है.

    सुंदर प्रस्तुति के लिये बधाइयाँ.

    ReplyDelete
  17. ओह...
    हाथ भर की दूरी थी
    और हाथ छूट गया....!

    सुंदर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  18. यह हाथ भार की दूरी ही कभी उम्र भर की दूरी बन जाती है...सुन्दर अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  19. बहुत सुन्दर रचना ............

    ReplyDelete
  20. काश,समय रहते लोग संबंधों को समझ पाते.

    ReplyDelete
  21. aksar aesa hi hota hai ye duri bhi tay nahi ho pati sunder bhav
    rachana

    ReplyDelete
  22. Moments of love are too precious but unfortunately we realize only when it is too late.

    ReplyDelete
  23. di
    is chhoti si racha ke madhyam se aapne bahut gahan baat kahi hai
    hardik naman
    poonam

    ReplyDelete
  24. यह मिलना तो अधूरा ही रहा फिर..बात तो तब पूरी होगी जब ऐसे मिलें कि दो न रहें...तब कौन .? किसे..? क्या ? कहेगा....

    ReplyDelete
  25. शिकवे और शिकायत में वह पल बीत गए |
    बीते पल लौट कर नहीं आते |
    sahi baat hai......

    ReplyDelete
  26. हमसे आया न गया , तुमसे बुलाया न गया ,
    फासला प्यार का दोनों से निभाया न गया |

    ReplyDelete
  27. शिकवे-शिकायतों का अपना सुख-दुख है. लेकिन इन्हीं से ही दो पल चुराए जा सकते हैं. सुंदर रचना.

    ReplyDelete
  28. बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति ...

    ReplyDelete
  29. शिकवे शिकायत ही सही ... कुछ पल साथ तो बीते ...

    ReplyDelete
  30. kya likhun Maheshwari ji ??? etani sundar rachana ki tareef ke ke liye shbdon ka abhav ho gaya hai >

    ReplyDelete