abhivainjana


Click here for Myspace Layouts

Followers

Friday, 22 June 2012

देखो मंगल मेघ है आया

देखो मंगल मेघ है आया

इस भीषण सी गर्मी में
 शीतल पवन का सुखद सा झोंका
संग अपने संदेशा लाया
उठो ,करो स्वागत
देखो ,मंगल मेघ है आया
पत्ते –पत्ते शाख –शाख पर
धरती के कण-कण में
जीवन की हर धड़कन
हर पल हर क्षण
मधुर रस उसने घोला
उठो ,करो स्वागत
देखो मंगल मेघ है आया
दादुर मोर पपीहा नाचे
तपित धरती के भाग हैं जागे
मुर्छित दुर्वा ने खोले लोचन
फिर हरित होंगे वन उपवन
खुश्क होठों पर मुस्कान है छाया
उठो ,करो स्वागत
देखो मंगल मेघ है आया
**************
महेश्वरी कनेरी

30 comments:

  1. वर्षा का भावपूर्ण सुंदर स्वागत ...!!मन खिल उठा ...!!शुभकामनायेन माहेश्वरी जी ..

    ReplyDelete
  2. बहुत सुंदर स्वागत !!!अब जल्दी से बरस भी जाए...तप्त धरती ठंढक पाए !!!

    ReplyDelete
  3. मानसून माहेश्वरी, मंगल मेघ मिलाप ।

    शीतल झोंका पवन का, हरे धरा का ताप ।

    ReplyDelete
  4. अति उत्तम प्रस्तुति..
    बहुत सुन्दर...
    :-)

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर हम तो स्वागत करने द्वार पर कब से बैठे हैं आज मेघ राजा आया भी और बैरन पवन उड़ा कर ले गई ....माहेश्वरी जी बहुत प्यारी रचना जबाब नहीं

    ReplyDelete
  6. बहुत सुंदर...सच मन खिल उठता है मंगल मेघ देख.....

    ReplyDelete
  7. मन उठो ,करो स्वागत
    देखो मंगल मेघ है आया,,,

    वर्षा ऋतू का सुंदर स्वागत किया,,,,आपने,,,,

    MY RECENT POST:...काव्यान्जलि ...: यह स्वर्ण पंछी था कभी...

    ReplyDelete
  8. मानसून शुभ मंगल हों

    ReplyDelete
  9. अभी यहाँ तो मेघ नहीं आया ...हम तो स्वागत के लिए तैयार बैठे हैं ...

    बहुत सुंदर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  10. हमारी टिप्पणी?????
    खो गयी....
    या बादलों के पीछे छुप गयी?????

    ReplyDelete
  11. बादलों का मोल गर्मी में ही मालूम चलता है।

    ReplyDelete
  12. हार्दिक स्वागत है मंगल मेघ का... सुन्दर मनभावन रचना

    ReplyDelete
  13. बहुत ही सुन्दर रचना ...........मेघों की प्रतीक्षा बहुत है लेकिन इस बार उनका आना और जाना लगा हुआ है ...........झमाझम बरसने को उनका मन नहीं है

    ReplyDelete
  14. दादुर मोर पपीहा नाचे
    तपित धरती के भाग हैं जागे
    मुर्छित दुर्वा ने खोले लोचन
    फिर हरित होंगे वन उपवन
    खुश्क अधर मृदुहास है छाया

    पावस की मनोरम रचना.............

    ReplyDelete
  15. नादिरधिन्ना नादिरधिन्ना साज बजाया

    ReplyDelete
  16. कल 24/06/2012 को आपकी यह बेहतरीन पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  17. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि-
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार (24-062012) को चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ!

    ReplyDelete
  18. बहुत सुंदर स्वागत

    ReplyDelete
  19. वाह ... बहुत ही बढिया ...आभार

    ReplyDelete
  20. बहुत सुन्दर !

    ReplyDelete
  21. इतने प्यारे स्वागत के बावजूद मेघ कन्नी कट रहे हैं ....काश आपकी सदा उन तक पहुँच जाये .....तो अलाहबाद में भी कुछ मेघ बरस जायें ....मन को आल्हादित करती रचना

    ReplyDelete
  22. हे मंगल मेघ अपनी कृपा हम पर बरसाइये !!!

    ReplyDelete
  23. It’s nice to be a friend with you.
    But may give you somethings special.
    You should to try it. It’s free, friends.
    HERE

    ReplyDelete
  24. मन उठो ,करो स्वागत
    देखो मंगल मेघ है आया,,,

    वर्षा ऋतू का सुंदर स्वागत किया,,,,आपने,,,,
    मन को प्रभावित करती सुंदर अभिव्यक्ति ,,,,,

    RECENT POST,,,,,काव्यान्जलि ...: आश्वासन,,,,,

    ReplyDelete
  25. इस भीषण सी गर्मी में
    शीतल पवन का सुखद सा झोंका
    संग अपने संदेशा लाया
    उठो ,करो स्वागत
    देखो ,मंगल मेघ है आया
    बहुत सुन्दर रचना .बहुत सुन्दर प्रस्तुति..

    ReplyDelete
  26. di
    varshha ke aagman ko aapne bakhubi apne kalam se ukera
    hai.swagtam varshha ritu ka
    bahut hi behtreen v man me ullas jagati ek sukhad prastuti
    sadar naman
    poonam

    ReplyDelete
  27. मंगल मेघ, मंगल कविता!

    ReplyDelete
  28. तप्त मौसम के बाद मेघों के आगमन की ध्वनि आपकी कविता ने सुना दी है. सच ही मेघों के समान मंगल अन्य कौन कर सकता है. सुंदर कविता.

    ReplyDelete
  29. ब्ला ललीत शर्मा has left a new comment on my post "देखो मंगल मेघ है आया":

    **♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**
    ~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~
    *****************************************************************
    उम्दा लेखन, बेहतरीन अभिव्यक्ति...हिडिम्बा टेकरी


    ♥ आपके ब्लॉग़ की चर्चा ब्लॉग4वार्ता पर ! ♥

    ♥ पहली बारिश में गंजो के लिए खुशखबरी" ♥

    ♥सप्ताहांत की शुभकामनाएं♥

    ब्लॉ.ललित शर्मा
    ***********************************************
    ~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^
    **♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**

    ReplyDelete