abhivainjana


Click here for Myspace Layouts

Followers

Thursday, 1 December 2011

यादें


यादें
जीवन के एकांत पलों में
जब अकेली  हो जाती हूँ
तब यादों के पन्नों में
 बस यूँ ही खो जाती हूँ
न जाने कितनी यादें
बसी है, मन के भीतर
कुछ खामोश कुछ गुमसुम
कुछ चहकती अंदर ही अंदर
कभी दर्द का सैलाब बन
आँखें नम कर देती यादें
कभी मीठी सी दवा बन
मन को सहला जाती यादें
माला सी गूँथ –गूँथ कर
पल-पल जुड़ती जाती यादें
भूलाए नहीं भूला पाती
ये खट्टी-मीठी सी राहें
जीवन के इस ढ़लते पल में
जब सब छूटने सा लगता है
तब याद ही बाकी रह जाती है
सिर्फ याद ही बाकी रह जाती है
******
*****

40 comments:

  1. यादों से पीछा कभी नहीं छूट सकता।
    बहुत ही अच्छा लिखा है आंटी।

    सादर

    ReplyDelete
  2. प्रस्तुति इक सुन्दर दिखी, ले आया इस मंच |
    बाँच टिप्पणी कीजिये, प्यारे पाठक पञ्च ||

    cahrchamanch.blogspot.com

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर पंक्तियाँ हैं ,बेहतरीन अभिव्यक्ति ..

    ReplyDelete
  4. यादों के बिना तो इंसान अकेला है ... बेहतरीन अभिव्‍यक्ति ।

    ReplyDelete
  5. सुखद और दुखद दोनों प्रकार की यादें भविष्य की रूप-रेखा के निर्धारण मे सहायक होती हैं,आपने सही अभिव्यक्ति प्रस्तुत की है।

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर महेश्वरी जी....
    सच है...बीते वक्त ही सुखद यादें ही आज का संबल होती हैं.
    सादर नमन..

    ReplyDelete
  7. है धूप कहीं छाया ..
    और ..छाया यादों का सरमाया ....
    यही है ज़िन्दगी ...
    बेहतरीन अभिव्‍यक्ति ......

    ReplyDelete
  8. महेश्वरी जी,..

    जब अपनों साथ छूटता सिर्फ याद रह जाती है,...
    बहुत अच्छी रचना,बधाई ...
    मेरे नई रचना में स्वागत है...

    ReplyDelete
  9. यादो की एक खुबसूरत अभिवयक्ति.....

    ReplyDelete
  10. आज का दिन भी कल याद बन जायेगा।

    ReplyDelete
  11. हाँ एकांत और स्मृतियाँ जुडी हैं एक दूजे से...... यादें सदा साथ रहती हैं....

    ReplyDelete
  12. सिर्फ याद ही बाकी रह जाती है...यही सच है, बहुत बढ़िया

    ReplyDelete
  13. यदि तो कभी पीछा नहीं छोडती ...........सुंदर भाव

    ReplyDelete
  14. सुंदर प्रस्तुति...
    सादर...

    ReplyDelete
  15. सच कहा यादो का खजाना रहता है हमारे पास

    ReplyDelete
  16. khubsurat bhaavo ki behtreen abhivaykti....

    ReplyDelete
  17. स्मृतियों पर एक संजीदगी भरी रचना. बहुत खूब....

    ReplyDelete
  18. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति.

    ReplyDelete
  19. बहुत सुन्दर लिखा आपने |

    ReplyDelete
  20. बहुत सुन्दर प्रस्तुति ||

    ReplyDelete
  21. बहुत अच्छी प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  22. ये क्या कम है कि याद बाकी हैं यादों के पृष्ठ खुल जातें हैं वरना ज़िन्दगी क्या कम निस्संग है .

    ReplyDelete
  23. यादें जीवन के लिए आक्सीजन का काम करती हैं।
    प्रभावशाली कविता।

    ReplyDelete
  24. Waah !! Khoobsurat rachna .
    Yaadon ki khoob ladiyan baandhi.

    Aabhaar....!!

    ReplyDelete
  25. ये यादें ही होती हैं जो हमारे जीने का सम्बल बन जाती हैं और दुःख के पलों में कोमलता से दुलार कर सहला जाती हैं ! बहुत ही सुन्दर अभिव्यक्ति !

    ReplyDelete
  26. कभी दर्द का सैलाब बन
    आँखें नम कर देती यादें
    कभी मीठी सी दवा बन
    मन को सहला जाती यादें

    bahut sundar yaaden

    ReplyDelete
  27. बेहद ख़ूबसूरत और शानदार रचना लिखा है आपने! बधाई!
    मेरे नये पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/
    http://seawave-babli.blogspot.com/

    ReplyDelete
  28. जीवन के इस ढ़लते पल में
    जब सब छूटने सा लगता है
    तब याद ही बाकी रह जाती है
    सिर्फ याद ही बाकी रह जाती है
    sunder bhav
    badhai

    ReplyDelete
  29. सभी मित्र बंधुओ को बहुत-बहुत धन्यवाद..मेरी भावनाओ को सहारा देने के लिए.. आशा है आगे भी आपके उत्साह बढ़ानेवाले सन्देश मेरी रचनाओं को मिलता रहेगा /आभार /

    ReplyDelete
  30. bahut sundar rachna maheshwari ji.

    ReplyDelete
  31. यादें जीने का आसान तरीका बन जाती हैं अक्सर ... यादें यादें ..

    ReplyDelete
  32. यादे ही जीने का सहारा है,...सुंदर पोस्ट
    मेरे नए पोस्ट पर आइये,.....

    ReplyDelete
  33. वाह, सच में बहुत सुंदर रचना है।
    बहुत बढिया

    ReplyDelete
  34. waqt ke saath sab chala jata hai bas yaad hin baaki rah jaati hai, sundar rachna, badhai.

    ReplyDelete
  35. .


    जब सब छूटने सा लगता है
    तब याद ही बाकी रह जाती है

    सच ! यादें जीवन में बहुत महत्व रखती हैं …
    अच्छी रचना !
    आभार !!

    ReplyDelete
  36. जीवन के एकांत पलों में
    जब अकेली हो जाती हूँ
    तब यादों के पन्नों में
    बस यूँ ही खो जाती हूँ

    मन की बातें.....

    और उन्हीं पन्नों में उलझ कर
    न जाने क्या-क्या लिख जाती हूँ...!!

    ReplyDelete
  37. जीवन के इस ढ़लते पल में
    जब सब छूटने सा लगता है
    तब याद ही बाकी रह जाती है
    सिर्फ याद ही बाकी रह जाती है
    .......
    जीवन के हर पल में बस यादें ही तो होती है साथ सुंदर भाव दी !

    ReplyDelete
  38. बहुत ही सुंदर भावों का प्रस्फुटन देखने को मिला है । मेरे नए पोस्ट उपेंद्र नाथ अश्क पर आपकी सादर उपस्थिति की जरूरत है । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  39. बहुत ही सुंदर भावों का प्रस्फुटन देखने को मिला है । मेरे नए पोस्ट उपेंद्र नाथ अश्क पर आपकी सादर उपस्थिति की जरूरत है । धन्यवाद ।

    ReplyDelete