abhivainjana


Click here for Myspace Layouts

Followers

Monday, 19 December 2011

कर्म ही जीवन है


   सन १९९१. उन्हीं दिनों पिता की मृत्यु से मन बहुत व्यथित था । विद्यालय में वार्षिक उत्सव की तैयारियाँ भी चल थी मुझे भी एक प्रोग्राम देना था,क्या करूँ समझ नही पारही..कुछ तो करना ही था । अचानक मेरे मन में ये भाव  उमड़ पड़े…

कर्म ही जीवन है …कर्म ही सब दुखो का अंत करने वाला


 महा मंत्र है....कर्म ही ईश्वर है.. कर्म ही ईश्वर है..”

  बस फिर क्या था मेरे भाव को आधार मिल गया और एक मूर्तिकार के रुप में मैंने उस भाव को जीवित करने की कोशिश की ।
एक लघु नाटिका के रुप में उसे विद्यालय में वार्षिक उत्सव में प्रस्तुत कर दिया । छोटे छोटे बच्चो ने भी मेरे भावनाओ के पात्र के रुप को बखुबी निभाया  । सभी ने इस नाटिका  को बहुत पसंद  किया था । इस नाटिका में एक दर्द था , पिता का आशीष छिपा था , इसी लिये ये मेरे लिए एक महान कृति बन गई थी  । 

उस दिनों रिकार्डिग की सुविधा न थी। लेकिन आज  इतने वर्ष बाद २६ नवम्बर २०११ मे्  मुझे फिर से इस नाटिका को अपने पुराने विद्यालय के वार्षिक उत्सव में अभिनीत कराने का पुन: अवसर मिला । ये मेरे लिए एक यादगार दिन बन गया था क्योंकि २६ नवम्बर यानी अपने जन्म दिन पर अपने पिता  की स्मृति  को पुन: ताजा करने का अवसर मिला अपनी इस नाटिका द्वारा । सच में ये मेरा सौभाग्य ही था ।

   लीजिए मैं आप सब के सम्मुख ये विडियो रिकार्डिग प्रस्तुत है । रिकार्डिग बहुत अच्छी तो नही हो पाई फिर भी अपनी पुरानी यादें  और अपने पिता का आशीष आप सब से बाँटना चाहती हूँ । उम्मीद करुँगी कि समय का आभाव होने पर भी आप इसे जरुर देखें और मेरा मार्ग दर्शन करें मुझे अच्छा लगेगा…… धन्यवाद..

video


56 comments:

  1. अदभुद...
    महेश्वरी जी बहुत बहुत सुन्दर...
    कलाकार के मनोभावों को बहुत अच्छी तरह प्रस्तुत किया वो भी नन्हे नन्हें बच्चों ने...
    ऐसा आशीष हर बच्ची को मिले अपने पिता से..

    ReplyDelete
  2. कर्म जीवन के सब दुखों से उबरने का महामन्त्र है।

    ReplyDelete
  3. बहुत उत्कृष्ट प्रस्तुति....

    ReplyDelete
  4. सच कहा है .. कर्म जीवन को दिशा देता है ... दुःख से उबरने का मन्त्र ...

    ReplyDelete
  5. कर्म ही जीवन है...सही कहा आपने सब दुखों का अंत करने वाला... आभार

    ReplyDelete
  6. बहुत ही सुन्दर नाटिका ………कर्म तो हर हाल मे करना पडता है और कर्म ही जीने की वजह दे देता है।

    ReplyDelete
  7. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल मंगलवार के चर्चा मंच पर भी की जायेगी! आपके ब्लॉग पर अधिक से अधिक पाठक पहुँचेंगे तो चर्चा मंच का भी प्रयास सफल होगा।

    ReplyDelete
  8. बहुत ही सुन्दर लगा नाटिका .......हम सभी को भी विषम परिस्थितियों में कर्म करते जाना चाहिए .
    भविष्य के लिए सीख भी मिल गई .

    ReplyDelete
  9. बहुत सुंदर ...बचपन के दिन याद हो आये ...
    कर्म का पाठ पढ़ता हुआ ...श्लोक में आवाज़ किसकी है ...? बहुत मधुर गायन है ...आप सभी को मेरी ढेरों शुभकामनायें ....

    ReplyDelete
  10. अनुपमा जी श्लोक में आवाज मेरी बेटी स्वाति की है...

    ReplyDelete
  11. बहुत ही अच्छी नाटिका है आंटी।

    सादर

    ReplyDelete
  12. आपलोगों के साथ बहुत सी बाते सिखने को मिल रही है....!
    बचपन को देख अच्छा लगा.... :)

    ReplyDelete
  13. Very Nice post our team like it thanks for sharing

    ReplyDelete
  14. बहुत सुंदर पुरानी यादो को ताजा करती बेहतरीन प्रस्तुति,...वीडियो में
    प्रस्तुतीकरण बहुत अच्छा लगा,..हम लोगो तक पहुचाने के लिए आभार.

    मेरी नई पोस्ट की चंद लाइनें पेश है....

    आफिस में क्लर्क का, व्यापार में संपर्क का.
    जीवन में वर्क का, रेखाओं में कर्क का,
    कवि में बिहारी का, कथा में तिवारी का,
    सभा में दरवारी का,भोजन में तरकारी का.
    महत्व है,...
    पूरी रचना पढ़ने के लिए काव्यान्जलि मे click करे

    ReplyDelete
  15. ओह! अनुपम
    अदभुत
    मार्मिक
    हृदयस्पर्शी .

    क्या कहूँ मैं आपकी सुन्दर प्रस्तुति के लिए.
    मन मग्न हो गया है मेरा.
    बहुत बहुत आभार सुन्दर जीवंत प्रस्तुतीकरण के लिए.


    समय मिलने पर मेरे ब्लॉग पर आईयेगा.
    कर्म योगी हनुमान जी पर अपने अमूल्य विचार
    प्रस्तुत कर अनुग्रहित कीजियेगा जी.

    ReplyDelete
  16. सच, बहुत सुंदर प्रस्तुति है ....
    कर्म जीवन का वह आधार है जो हर दुःख से हमें बाहर निकाल सकता है .... प्रेरित करती पोस्ट के लिए आभार

    ReplyDelete
  17. बहुत अच्छी प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  18. बहुत सुन्दर प्रस्तुति....

    ReplyDelete
  19. बहुत सुन्दर! उम्दा प्रस्तुती!

    ReplyDelete
  20. adddbhut ,utkrasht prastuti naatika vishya,chote chote bachchon ki kalakari nepathya ki aavaaj khoobsurat background music kya kahoon taareef ke liye shabd nahi hain mere paas.karm hi ishwar,karm hi pooja ka sajeev chitran.

    ReplyDelete
  21. प्रस्तुति,गायन, अभिनय,संदेश...सब कुछ उत्कृष्ट
    विद्यालय के दिन याद आ गए जब हम भी इस तरह के सांस्कृतिक कार्यक्रमों के हिस्सा हुआ करते थे|

    ReplyDelete
  22. बहुत सुन्दर नाटिका ,बधाई स्वीकारें महेश्वरी जी .....

    ReplyDelete
  23. Beautiful presentation. thanks for sharing with us..Enjoyed watching .

    ReplyDelete
  24. bahut hi sunder natika bachchon ne bahut khub kiya hai aap sabhi ko badhai
    rachana

    ReplyDelete
  25. अच्छी प्रस्तुति.

    ReplyDelete
  26. बहुत अच्छी प्रस्तुति. कई दिनों बाद ऐसा कुछ मिला देखने को. बहुत धन्यवाद :)

    ReplyDelete
  27. बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति .

    ReplyDelete
  28. नाट्य प्रस्तुति ध्यान से देखी. कर्म की ओर प्रवृत्त करती बहुत ही शांतिदायक. पिताश्री की स्मृति पर नमन.

    ReplyDelete
  29. अदभुद...
    महेश्वरी जी बहुत बहुत सुन्दर...
    बहुत ही सुन्दर नाटिका ………कर्म तो हर हाल मे करना पडता है और कर्म ही जीने की वजह दे देता है।
    बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति .

    ReplyDelete
  30. लाजवाब प्रस्तुति..

    ReplyDelete
  31. बहुत सुन्दर तरीका अपनी बातें कहने का......
    आप मेरे ब्लॉग पर आई और आशीष रूपी टिप्पणी दी आपका आभार...

    ReplyDelete
  32. बहुत ही अच्‍छा लिखा है आपने ...

    ReplyDelete
  33. क्रिसमस की हार्दिक शुभकामनायें !
    मेरे नये पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/
    http://seawave-babli.blogspot.com/

    ReplyDelete
  34. उत्कृष्ट प्रस्तुति.......

    ReplyDelete
  35. abhar maheshwari ji ... mere nye post pr apka aamantran hai

    ReplyDelete
  36. बहुत सुंदर प्रस्तुति,..नए पोस्ट के इंतजार में,...

    "काव्यान्जलि"--नई पोस्ट--"बेटी और पेड़"--में click करे

    ReplyDelete
  37. सुंदर नाटिका ने मन मोह लिया।
    बधाई आपको।

    ReplyDelete
  38. बहुत ही अच्‍छा लिखा है ,आपकी प्रस्तुति अच्छी लगी । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  39. जो बड़े प्यार से मिलता है लपककर तुझसे
    आदमी दिल का भी अच्छा हो वो ऐसा न समझ
    कलाकार के मनोभावों की सुन्दर प्रस्तुति

    vikram7: आ,मृग-जल से प्यास बुझा लें.....

    ReplyDelete
  40. सुंदर अभिव्यक्ति,.....
    नया साल सुखद एवं मंगलमय हो,....

    मेरी नई पोस्ट --"नये साल की खुशी मनाएं"--

    ReplyDelete
  41. आपको और परिवारजनों को नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएँ.

    ReplyDelete
  42. mere paas net kee abhi problem hai is liye main video dekhne me asamath hun ...fir bhi aapki bhavnaaon ko main samajh paa rahi hun... Net vyavasthit hone par video ko dekhungi...aapko navvarsh par shubhkaamnayen..

    ReplyDelete
  43. नए साल की हार्दिक बधाई आपको

    ReplyDelete
  44. कर्मण्ये वाधिकारस्ते म फलेषु कदाचना!!
    ka pavitra sandesh deti huyi ye natya rachna bahut hi sundar hai ...bahut hi sasakt prastuti ...behtarin abhinaya ...

    ReplyDelete
  45. आपको एवं आपके परिवार के सभी सदस्य को नये साल की ढेर सारी शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  46. NAV VARSH PR HARDI BADHAI KE SATH AK ACHHI PRAVISHTI KE LIYE ABHAR.

    ReplyDelete
  47. इस सूक्ष्म भावाभिव्यक्ति के लिए सहज अनुभूत सत्यों की काव्यात्मक अभिव्यक्ति के लिए बधाई .

    ReplyDelete
  48. बहुत बढ़िया प्रस्तुति,नये पोस्ट का इंतजार ......
    welcome to new post--जिन्दगीं--

    ReplyDelete
  49. bahut hi sundar prastuti .....khoobsoorat abhivyakti ke sath recording dikhane ke liye abhar.

    ReplyDelete