abhivainjana


Click here for Myspace Layouts

Followers

Friday, 9 December 2011

मेरी पहचान


मेरी पहचान
कभी धीरे से, कभी चुपके से
अभी तूफान लिए ,कभी उफान लिए
कभी दर्द का अहसास लिए
कभी आस और विश्वास लिए
मेरी भावनाएँ ,अकसर आकर…
मेरे मन के साथ खेलने लगजाती हैं
तब मैं उन्हें शब्दों के जाल में लपेटे
पन्नों में यूँ ही बिखेर देती हूँ ।
इसे मेरे दिल का गुब्बार कहे
या फिर..
एक सुखद सा अहसास
जो भी हो ……..
वो मेरी कृति बन जाती है
अच्छी है या बुरी,
मेरे जीवन में गति बन आती है
ये कृति, मेरी आत्मा है, मेरे प्राण है
मेरी जिन्दगी है ,मेरी पहचान है..
बस , यही तो मेरी पहचान है…..
******

46 comments:

  1. सटीक! भावनायें, अनुभूतियाँ, यही तो खिलती हैं काव्यकुसुम के रूप में! शब्द ही बनते हैं पहचान हमारी!

    ReplyDelete
  2. सच है, यही है हमारी पहचान।

    ReplyDelete
  3. ये कृति, मेरी आत्मा है, मेरे प्राण है
    मेरी जिन्दगी है ,मेरी पहचान है..

    कृति में कवि की जान है, बस इतना ही जान
    भाव आत्मा, श्वाँस शब्द,और है क्या पहचान.

    ReplyDelete
  4. वो मेरी कृति बन जाती है
    अच्छी है या बुरी,
    मेरे जीवन में गति बन आती है

    आपका कहना सच है ...ये शब्द हमारे प्राण हैं, पहचान हैं.....

    ReplyDelete
  5. ये कृति, मेरी आत्मा है, मेरे प्राण है
    मेरी जिन्दगी है ,मेरी पहचान है...
    सच है ...

    ReplyDelete
  6. वो मेरी कृति बन जाती है
    अच्छी है या बुरी,
    मेरे जीवन में गति बन आती है
    ये कृति, मेरी आत्मा है, मेरे प्राण है
    bilkul sahi kah rahi hi aapki kavita.

    ReplyDelete
  7. वाह महेश्वरी जी...
    भावनाओं को शब्दों के जाल में लपेट कर...पन्नों में बिखेरना..
    बहुत सुन्दर भाव...
    सादर नमन.

    ReplyDelete
  8. ये कृति, मेरी आत्मा है, मेरे प्राण है
    मेरी जिन्दगी है ,मेरी पहचान है..
    बस , यही तो मेरी पहचान है….

    बहुत ही अच्छे भाव हैं आंटी....अपनी अलग पहचान बनी ही रहनी चाहिए।

    सादर

    ReplyDelete
  9. ये कृति, मेरी आत्मा है, मेरे प्राण है
    मेरी जिन्दगी है ,मेरी पहचान है..isi mein main hun , sach me

    ReplyDelete
  10. ये कृति, मेरी आत्मा है, मेरे प्राण है
    मेरी जिन्दगी है ,मेरी पहचान है...………बिल्कुल सही कहा।

    ReplyDelete
  11. ये कृति, मेरी आत्मा है, मेरे प्राण है
    मेरी जिन्दगी है ,मेरी पहचान है....बेहतरीन और अदभुत अभिवयक्ति....

    ReplyDelete
  12. भावनाएं तो दिल का अहसास होती हैं। और इन्हें अभिव्यक्ति का माध्यम मिलना ही चाहिए। और जो भावनाओं को अभिव्यक्ति दे उसे दिल से लिखी रचना कहते हैं और वह अच्छी ही होती है।

    ReplyDelete
  13. kriti gatimaan bani rahe yahi meri kamna hai

    ReplyDelete
  14. कल 12/12/2011को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  15. ये कृति, मेरी आत्मा है, मेरे प्राण है
    मेरी जिन्दगी है ,मेरी पहचान है..

    ....सच्चे अहसासों और भावों से निसृत कृति निश्चय ही अच्छी होगी और उस पहचान पर गर्व स्वाभाविक है...बहुत सुंदर अभिव्यक्ति..

    ReplyDelete
  16. काव्य रचना अक्षर ब्रह्म है. यह अपने तरीके से रचना करता है. सुंदर कविता.

    ReplyDelete
  17. शब्दों में भावनाओं को समेटना ही हमारी पहचान है ..बहुत अच्छी प्रस्तुति

    ReplyDelete
  18. bas yahin to meri pahchaan hai..bhut khub :)
    mere blog par aapka swagat hai :)

    ReplyDelete
  19. ये कृति, मेरी आत्मा है, मेरे प्राण है
    मेरी जिन्दगी है ,मेरी पहचान है..
    वाह ...बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  20. behad karib dil ke aesi rachna hae aapki ,shbdon ko bhvnaon men bandh lena ye kala hae aapki

    ReplyDelete
  21. बस , यही तो मेरी पहचान है…..

    सचमुच आपकी कृति ही आपकी पहचान है

    ReplyDelete
  22. ये कृति, मेरी आत्मा है, मेरे प्राण है
    मेरी जिन्दगी है ,मेरी पहचान है..
    बस , यही तो मेरी पहचान है…..

    vah.... sundar ....badhai.

    ReplyDelete
  23. ख़ूबसूरत अभिव्यक्ति के साथ भावपूर्ण प्रस्तुती!
    मेरे नये पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/
    http://seawave-babli.blogspot.com/

    ReplyDelete
  24. कभी दर्द का अहसास लिए
    कभी आस और विश्वास लिए
    मेरी भावनाएँ ,अकसर आकर…
    मेरे मन के साथ खेलने लगजाती हैं

    Lovely ...

    .

    ReplyDelete
  25. कोई भी कृति इश्वर का स्वरुप है... सृजन की यात्रा है... और यही हमारी पहचान भी...!
    फिर अंतिम सत्य भी तो यही है कि आत्मा परमात्मा से भिन्न नहीं...!
    सुन्दर रचना!

    ReplyDelete
  26. सुंदर प्रस्तुती..बधाई....
    मेरी नई पोस्ट


    सब कुछ जनता जान गई ,इनके कर्म उजागर है
    चुल्लु भर जनता के हिस्से,इनके हिस्से सागर है,
    छल का सूरज डूब रहा है, नई रौशनी आयेगी
    अंधियारे बाटें थे तुमने, जनता सबक सिखायेगी,

    आपका स्वागत है
    ________________

    ReplyDelete
  27. वाह क्या बात है खूबसूरत रचना , बहुत दिनों बाद पढने को मिली

    ReplyDelete
  28. बहुत ही सटीक भाव..बहुत सुन्दर प्रस्तुति
    शुक्रिया ..इतना उम्दा लिखने के लिए !!

    ReplyDelete
  29. सुन्दर भाव चित्र कोमल भावोंकी बरात का आलेख .बधाई .

    ReplyDelete
  30. ये कृति, मेरी आत्मा है, मेरे प्राण है
    मेरी जिन्दगी है ,मेरी पहचान है...

    बहुत सुन्दर प्रस्तुति...
    मेरे ब्लौग पर आने के लिए हार्दिक आभार|

    ReplyDelete
  31. इसे मेरे दिल का गुब्बार कहे
    या फिर..
    एक सुखद सा अहसास
    जो भी हो ……..
    वो मेरी कृति बन जाती है
    अच्छी है या बुरी, ...
    .....
    मेरे साथ भी यही है, मेरे ख्याल से हर एक के साथ यही है, सभी यहाँ अपनी भावनाओं को ही तो उकेरते है.

    ReplyDelete
  32. ये कृति, मेरी आत्मा है, मेरे प्राण है
    मेरी जिन्दगी है ,मेरी पहचान है..
    बस , यही तो मेरी पहचान है…..

    sach kaha hamari kriti hamari pehchan hin to hai. sundar rachna, badhai.

    ReplyDelete
  33. ये कृति, मेरी आत्मा है, मेरे प्राण है
    मेरी जिन्दगी है ,मेरी पहचान है..
    बस , यही तो मेरी पहचान है…..
    क्या बात है बहुत सुंदर सत्य........

    ReplyDelete
  34. आत्मस्वीकृति का प्यारा सा एहसास ......

    ReplyDelete
  35. Amrita Tanmay has left a new comment on my post "मेरी पहचान":

    पहचान यही है.. बहुत बढ़िया..

    ReplyDelete
  36. क्या कहने, बहुत सुंदर रचना

    ReplyDelete
  37. aapka shukhad ahsaas sbhado me achchha laga:)

    ReplyDelete
  38. कविताएं अहसासों का दर्पण हैं ...सुंदर अभिव्यक्ति । शुभकामनाएँ

    ReplyDelete
  39. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  40. तब मैं उन्हें शब्दों के जाल में लपेटे
    पन्नों में यूँ ही बिखेर देती हूँ ।

    jivananad ki bhavnaye ..aanubhavi kalam ka parichay

    ReplyDelete
  41. दिल से निकली बात ही अच्छी कविता होती है

    ReplyDelete
  42. यहाँ आ कर अच्छा लगा

    ReplyDelete