abhivainjana


Click here for Myspace Layouts

Followers

Monday, 12 September 2011

वो जीना चाहता है......

वो जीना चाहता है
सफर के इस संध्या में
चलते-चलते, लगता है
.थक गई हूँ
कदम आगे बढ़ने को तैयार नहीं
साँस थमने लगती है
सोचती हूँ .. बस
यहीं रुक जाऊँ ,सुस्ताऊँ
तभी मेरी नन्हीं सी पोती
मेरा हाथ थामे
मेरे कानों में कुछ कहती है
और मैं ,मंत्रमुग्ध सी
 फिर चलने लगती हूँ
बिना रुके बिना थके…
बस यही एक अनुभूति,
प्यार की ,स्पर्श की
जो डूबते मन में
आस- विश्वास भर देता है
और
जीने की चाह जगा देता है
शायद ……
 आने वाला कल
 बीते हुए कल का सपना है
 उसे हमेशा पुष्पित और
 पल्ल्वित होते देखना चाहता है
 इसी लिए
 अतीत बन कर ही सही
 पर वो जीना चाहता है
   वो जीना चाहता है………….
*********

40 comments:

  1. बहुत बढि़या ...।

    ReplyDelete
  2. सकारात्मक दृष्टिकोण को उजागर करती हुई रचना .....

    ReplyDelete
  3. एक अनुभूति,
    प्यार की ,स्पर्श की
    जो डूबते मन में
    आस- विश्वास भर देता है
    और
    जीने की चाह जगा देता है
    koi shak nahi ... bahut hi gahri vyakhya , badi komalta se

    ReplyDelete
  4. वाह बहुत खूब .....रिश्तो में जीने की इच्छा ...और प्यार यूँ ही बना रहे ....हर एहसास जीने की इच्छा को यूँ ही बढाता रहे .......आभार

    ReplyDelete
  5. अतीत बन कर ही सही
    पर वो जीना चाहता है
    वो जीना चाहता है
    क्या लिखा है आपने.... बहुत ही असुंदर.....दिल को छू गया...

    ReplyDelete
  6. Maheshwari jee namaskaar aapne mera hamesha utsaahwardhan kiya hai mere blag me aakar mai saadar aabhar deta hu aapko mere anya blag ki bhi shobha badhaye aakar आपको अग्रिम हिंदी दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं. हमारी "मातृ भाषा" का दिन है तो आज से हम संकल्प करें की हम हमेशा इसकी मान रखेंगें...
    आप भी मेरे ब्लाग पर आये और मुझे अपने ब्लागर साथी बनने का मौका दे मुझे ज्वाइन करके या फालो करके आप निचे लिंक में क्लिक करके मेरे ब्लाग्स में पहुच जायेंगे जरुर आये और मेरे रचना पर अपने स्नेह जरुर दर्शाए..
    MADHUR VAANI कृपया यहाँ चटका लगाये
    BINDAAS_BAATEN कृपया यहाँ चटका लगाये
    MITRA-MADHUR कृपया यहाँ चटका लगाये

    ReplyDelete
  7. क्या बात है महेश्वरी जी,
    बचपन बुढ़ापे का अनोखा अहसास
    नया जीवन जीने की प्रेरणा देता हुआ,

    सुन्दर प्रस्तुति के लिए आभार,
    समय मिलने पर मेरे ब्लॉग पर भी आईयेगा.
    नई पोस्ट जारी की है,

    ReplyDelete
  8. प्रेम को पुकारती-सी, ज़िन्दगी को आवाज़ लगाती-सी एक सुंदर रचना !

    ReplyDelete
  9. वस्तुतः सोचने का विषय है..एक छोटी-सी भंगिमा 'स्पर्श' जीवन की संध्या-बेला में भी जीवन की स्फूर्ति जगा देती है..!!! बहुत सुंदर..!!!

    ReplyDelete
  10. सभी मित्र बंधुओ को बहुत-बहुत धन्यवाद..मेरी भावनाओ को सहारा देने के लिए.. आशा है आगे भी आपके उत्साह बढ़ानेवाले सन्देश मेरी रचनाओं को मिलता रहेगा /आभार /

    ReplyDelete
  11. बहुत सुन्दर..सकारात्मक सोच की प्रभावी अभिव्यक्ति..

    ReplyDelete
  12. बढती उम्र में ऊर्जा का संचार कराती एक बेहतरीन कविता. आभार !

    ReplyDelete
  13. तभी मेरी नन्हीं सी पोती
    मेरा हाथ थामे
    मेरे कानों में कुछ कहती है
    और मैं ,मंत्रमुग्ध सी
    फिर चलने लगती हूँ

    सुन्दर रचना आपकी, नए नए आयाम |
    देत बधाई प्रेम से, हो प्रस्तुति-अविराम ||

    ReplyDelete
  14. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टी की चर्चा कल मंगलवार के चर्चा मंच पर भी की गई है!
    यदि किसी रचनाधर्मी की पोस्ट या उसके लिंक की चर्चा कहीं पर की जा रही होती है, तो उस पत्रिका के व्यवस्थापक का यह कर्तव्य होता है कि वो उसको इस बारे में सूचित कर दे। आपको यह सूचना केवल इसी उद्देश्य से दी जा रही है! अधिक से अधिक लोग आपके ब्लॉग पर पहुँचेंगे तो चर्चा मंच का भी प्रयास सफल होगा।

    ReplyDelete
  15. बहुत ही सार्थक और बेहतरीन कविता.

    ReplyDelete
  16. जिन्दगी को जी भर के जीने के लिए प्रेरित करती रचना....

    ReplyDelete
  17. जीवन की आस मौलिक है, जीना आलौकिक है।

    ReplyDelete
  18. कल 14/09/2011 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  19. वो जीना चाहता है
    सफर के इस संध्या में
    चलते-चलते, लगता है
    .थक गई हूँ
    कदम आगे बढ़ने को तैयार नहीं
    साँस थमने लगती है
    सोचती हूँ .. बस
    यहीं रुक जाऊँ ,सुस्ताऊँ
    तभी मेरी नन्हीं सी पोती
    मेरा हाथ थामे
    मेरे कानों में कुछ कहती है
    और मैं ,मंत्रमुग्ध सी
    फिर चलने लगती हूँ
    बिना रुके बिना थके…आगे की और ही तो है जीवन भले दोहराव है अतीत का व्यतीत का ,दे -जावू है ..बहुर सुन्दर रचना मन को स्पर्श करती सी .बधाई !

    ReplyDelete
  20. वो जीना चाहता है
    सफर के इस संध्या में
    चलते-चलते, लगता है
    .थक गई हूँ
    कदम आगे बढ़ने को तैयार नहीं
    साँस थमने लगती है
    सोचती हूँ .. बस
    यहीं रुक जाऊँ ,सुस्ताऊँ
    तभी मेरी नन्हीं सी पोती
    मेरा हाथ थामे
    मेरे कानों में कुछ कहती है
    और मैं ,मंत्रमुग्ध सी
    फिर चलने लगती हूँ
    बिना रुके बिना थके…आगे की ओर ही तो है जीवन भले दोहराव है अतीत का व्यतीत का ,दे -जावू है ..बहुर सुन्दर रचना मन को स्पर्श करती सी .बधाई !

    ReplyDelete
  21. बहुत सुंदर भाव हैं इस कविता में.. जीवन आगे बढने का ही नाम है बहाना कोई भी हो....

    ReplyDelete
  22. Maheshwari ji,
    apnapan aur sneh aisa bhaav hai jo hamein jivit rakhta hai aur chalte rahne ke liye prerit karta hai...
    सोचती हूँ .. बस
    यहीं रुक जाऊँ ,सुस्ताऊँ
    तभी मेरी नन्हीं सी पोती
    मेरा हाथ थामे
    मेरे कानों में कुछ कहती है
    और मैं ,मंत्रमुग्ध सी
    फिर चलने लगती हूँ
    बिना रुके बिना थके…

    bahut utkrisht rachna, badhai.

    ReplyDelete
  23. khoobsorat hai ye soch aapki...


    Apne blog par fir se sajag hone ke prayaas me hoon:
    http://teri-galatfahmi.blogspot.com/

    ReplyDelete
  24. सबसे पहले हिंदी दिवस की शुभकामनायें /
    इसी लिए
    अतीत बन कर ही सही
    पर वो जीना चाहता है
    वो जीना चाहता है…बहुत ही सुंदर और गहन सोच को उजागर करती हुई बेमिसाल रचना /बहुत बधाई आपको /
    मेरी नई पोस्ट हिंदी दिवस पर लिखी पर आपका स्वागत है /
    http://prernaargal.blogspot.com/2011/09/ke.html/ आभार/

    ReplyDelete
  25. प्रेम की शक्ति .. नेह का बंधन अपार होता है .... नई शक्ति का प्रवाह करता है .. सुन्दर रचना है ...

    ReplyDelete
  26. प्यार और स्पर्श , यही तो है सब कुछ । सबसे ज्यादा मिलता है ये मासूम , नन्हे-नन्हे हाथों के स्पर्श में। ये छोटे-छोटे सुखद अनुभव ही मन को प्रफुल्लित रखते हैं ।

    ReplyDelete
  27. सुन्दरता से अभिव्यक्त किया है , बेहतरीन रचना |

    ReplyDelete
  28. यह एक ऐसा एहसास है जो हमें और, .. और, .. और जीने का हौसला देता है।

    ReplyDelete
  29. सुंदर ...मन को छूती रचना ....

    ReplyDelete
  30. सबसे पहले हिंदी दिवस की शुभकामनायें

    वो जीना चाहता है
    सफर के इस संध्या में
    चलते-चलते, लगता है
    .थक गई हूँ

    बहुत सुंदर संवेदनशील भाव समेटे हैं

    ReplyDelete
  31. बहुत कोमल भाव समेटे अति सुन्दर रचना अंतर्मन में रची बसी नैसर्गिक कोंपल यूँ ही प्रस्फुटित होती है और जीवन उदासियों के गहन अन्धकार से पुनः स्नेहिल आलोक से प्रकाशमय हो जाता है अर्थ पूर्ण बन जाता है....आपको हार्दिक शुभ कामनाएं एवं सादर अभिनन्दन !!!

    ReplyDelete
  32. बहुत सुंदर रचना और भाव

    आने वाला कल
    बीते हुए कल का सपना है
    उसे हमेशा पुष्पित और
    पल्ल्वित होते देखना चाहता है
    इसी लिए
    अतीत बन कर ही सही
    पर वो जीना चाहता है

    ReplyDelete
  33. सुन्दर संवेदनशील सशक्त अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  34. एक अनुभूति,
    प्यार की ,स्पर्श की
    जो डूबते मन में
    आस- विश्वास भर देता है
    और
    जीने की चाह जगा देता है

    व्यक्ति को जीने का संबल देता है परिवार ...

    ReplyDelete
  35. सुंदर और सकारात्मक रचना.

    ReplyDelete
  36. सभी मित्र बंधुओ को बहुत-बहुत धन्यवाद..मेरी भावनाओ को सहारा देने के लिए.. आशा है आगे भी आपके उत्साह बढ़ानेवाले सन्देश मेरी रचनाओं को मिलता रहेगा /आभार /

    ReplyDelete