abhivainjana


Click here for Myspace Layouts

Followers

Tuesday, 26 November 2013

सुबह का अहसास



ढूँढ़ रही मैं,

बीते वक्त के, उस कल को

छोड़ आई ,जहाँ पर

बचपन के उस पल को

हर दिन मैं बढ़ती जाती

उम्र की सीढ़ी चढ़ती जाती

और छूट रहा था बचपन पीछे

बचपन-बचपन कह पुकारती

पर पास कभी न वो आती

बस दूर खड़ी-खड़ी मुस्काती

जब मैं नन्हें हाथों से अपने

माँ की अँगुली थामे रहती

तब अकसर सोचा करती थी..

कब जल्दी बड़ी होजाऊँ

पर आज..

 बडी होकर भी मैं

वापस बचपन ढूँढ़ा करती हूँ

उम्र की ढलती इस संध्या में

यादों का दीया जला कर

मैं पगली ..

सुबह का अहसास संजोए रखती हूँ


***********
महेश्वरी कनेरी

31 comments:

  1. सच है बचपन फिर नहीं मिलता .... आशाएं यूँ ही बनी रहें ....शुभकामनायें आपको

    ReplyDelete
  2. बार बार आती है मुझको मधुर याद बचपन तेरी ...अविस्मरणीय रहती हैं स्मृतियाँ बचपन की ....आज के दिन की अनेक शुभकामनायें आपको .....!!

    ReplyDelete
  3. सटीक शब्दों से मन के भाव ढाले हैं इस प्रस्तुति में -
    आभार दीदी-

    ReplyDelete
  4. यादों का दिया जलाकर.... मैं पगली.... सुबह का अहसास संजोये रखती हूँ .... बचपन के कोमल भावों को बहुत ही सुंदर अहसास के साथ पिरोये हैं ....शुभकामनायें .

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर भाव......
    आस का दीप जलता रहे...रोशन हो जीवन |
    जन्मदिन की अनंत शुभकामनाएं......

    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  6. बचपन कियाद दिलाती सुन्दर रचना । तस्वीर भी बहुत अच्छी है |

    ReplyDelete
  7. दिल के किसी कोने में वह आज भी जीवित है...जन्मदिन की शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  8. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति बुधवारीय चर्चा मंच पर ।।

    ReplyDelete
  9. सच बचपन में हमेशा बड़े होने की जल्दी रहती है और जब बड़े हो जाते हैं तो मन हर पल बचपन में लौटजाने को मचलता है। सुंदर भावाभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  10. बचपन की यादें ताज़ा करती भावपूर्ण रचना ... जनम दिन मुबारक ...

    ReplyDelete
  11. बहुत ही भावपूर्ण रचना, शुभकामनाएं.

    रामराम.

    ReplyDelete
  12. जन्मदिन मुबारक हो। हम आपके सुंदर,स्वस्थ,सुखद,समृद्ध उज्ज्वल भविष्य एवं दीर्घायुष्य की मंगल कामना करते हैं.

    ReplyDelete
  13. बहुत ही बढ़िया आंटी।
    जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएँ!

    सादर

    ReplyDelete
  14. जन्मदिन की बहुत बहुत बधाई दीदी
    हार्दिक शुभकामनायें
    सादर

    ReplyDelete
  15. आदरणीया, जन्मदिन की हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं -----
    बचपन की स्मृतियों को संजोती प्रभावशाली सुंदर रचना
    सादर

    ReplyDelete
  16. bahut sundar ..........jamdin ki hardik shubhkamnaye................

    ReplyDelete
  17. बहुत सही लिखा है आपने हर व्यक्ति अपना बचपन तलाशना चाहता है

    ReplyDelete
  18. सच बचपन के दिन बच्चों के साथ बहुत याद आते हैं ...आजकल के और उस समय के बच्चों में बहुत अंतर है ..फिर भी बचपन सा जीना बहुत अच्छा लगता है ...लेकिन हो नहीं पाता यह सब तो मन में कहीं अफ़सोस के भाव देर सवेर चेहरे पर आ ही जाते हैं ...
    बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  19. पर आज..
    बडी होकर भी मैं
    वापस बचपन ढूँढ़ा करती हूँ.....
    बहुत खूबसूरत और सार्थक रचना

    ReplyDelete
  20. jiwan ke adbhut kshano ki jiwant kahani kahati

    ReplyDelete
  21. बडी होकर भी मैं
    वापस बचपन ढूँढ़ा करती हूँ
    उम्र की ढलती इस संध्या में
    यादों का दीया जला कर
    मैं पगली ..
    सुबह का अहसास संजोए रखती हूँ
    ........ बहुत ही बढिया ... जन्‍मदिन की अनंत शुभकामनाएं

    सादर

    ReplyDelete

  22. ये एहसास यूँही संजोय रखें और हम सभी पर आपका स्नेहाशीष चिरंतर बना रहे. आमीन।

    सादर
    मधुरेश

    ReplyDelete
  23. यादें .....एक अटूट हिस्सा जीवन का ...हमारी दोस्त ...हमारी हमदर्द

    ReplyDelete
  24. Bahut hi sahi abivayakti....jab hum chotey hotey ahin to bass jaldi hee badey hona chahtey hain

    ReplyDelete
  25. शुभकामनाएं...शुभकामनाएं....शुभकामनाएं.


    ReplyDelete
  26. सच में बचपन को हम कहाँ भूल पाते हैं ....बहुत प्रभावी भावपूर्ण रचना....

    ReplyDelete
  27. बडी होकर भी मैं
    वापस बचपन ढूँढ़ा करती हूँ
    उम्र की ढलती इस संध्या में
    यादों का दीया जला कर
    मैं पगली ..
    सुबह का अहसास संजोए रखती हूँ
    sahi kaha aesa hi hota hai kya pata kyu shayad jo chhut jata hai ham usko ho dhundhte hain
    rachana

    ReplyDelete
  28. यादों के दीये की रोशनी में ज़िंदगी सुन्दर प्रतीत होती है. सुन्दर रचना...

    ReplyDelete
  29. वे यादें ही काफी हैं ..

    ReplyDelete