abhivainjana


Click here for Myspace Layouts

Followers

Wednesday, 16 October 2013

पत्थर का शहर



तुम्हें याद है न..

कभी तुम्हारे अंदर एक गाँव बसा करता था

लहलहाते खेतों की ताज़गी लिए

भोला भाला,सीधा साधा सा गाँव

और उसी गाँव में मेरा भी घर हुआ करता था

मिट्टी से लिपा हुआ भीनी भीनी खुशबू लिए

सुखद अहसासों से भरा,चन्द सपने बटोरे

एक छोटा सा प्यारा घर

पर तुम ने ये क्या किया

प्यार के इस लहलहाते खेत को

पकने से पहले ही उजाड़ दिया

और वहाँ एक शहर बसा लिया

अब तो मेरा घर भी घर न रहा

पत्थर का मकान बन गया

मुट्ठी भर सपने और वो सुखद अहसास

उसी पत्थर के नीचे कही दब कर सो गए

और मैं बेघर हो ,भटक रही हूँ

तुम्हारे इस पत्थर के शहर में..


****************


महेश्वरी कनेरी

40 comments:

  1. बहुत सुंदर अभिव्यक्ति .कंक्रीट के घने जंगलों में मिट्टी की भीनी खुशबू खो गई है .

    ReplyDelete
  2. इस पोस्ट की चर्चा, बृहस्पतिवार, दिनांक :-17/10/2013 को "हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल {चर्चामंच}" चर्चा अंक -26 पर.
    आप भी पधारें, सादर ....

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार आप का राजीव जी..

      Delete
  3. गाँव से पत्थर के शहर तक ......हृदयस्पर्शी अभिव्यक्ति .....!!

    ReplyDelete
  4. बहुत खुबसूरत रचना अभिवयक्ति.........

    ReplyDelete
  5. गाँव उजाड़कर बढ़ते कंक्रीट के जंगल पर सुन्दर अभिव्यक्ति |
    latest post महिषासुर बध (भाग २ )

    ReplyDelete
  6. बहुत सटीक और भावपूर्ण रचना...बहुत सुन्दर...

    ReplyDelete
  7. गगन चुम्बी अट्टालिकाओं और चप्पे चप्पे पर कंक्रीट के जंगल ,बहुत खूब

    ReplyDelete
  8. गाँव से पत्थर के शहर तक ......हृदयस्पर्शी अभिव्यक्ति दीदी
    सादर

    ReplyDelete
  9. सच बयां करती अभिव्यक्ति....

    ReplyDelete
  10. समय की तेज़ी ने संवेदनाएं खत्म कर दी हैं ... सभी कुछ पत्थर का हो गया है ...
    दिल को छूती है रचना ...

    ReplyDelete
  11. सच है आज गाँव को पहचानना मुश्किल हो गया है..हर कहीं शहर ने अपने पांव पसार लिये हैं..

    ReplyDelete
  12. नगर के कृत्रिम आकार

    ReplyDelete
  13. कल 18/10/2013 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  14. आज की बुलेटिन अंतर्राष्ट्रीय गरीबी उन्मूलन दिवस और ब्लॉग बुलेटिन में आपकी इस पोस्ट को भी शामिल किया गया है। सादर .... आभार।।

    ReplyDelete
  15. अत्यंत ही भावपूर्ण . मर्म उभर आया है.

    ReplyDelete
  16. प्यार के इस लहलहाते खेत को

    पकने से पहले ही उजाड़ दिया

    और वहाँ एक शहर बसा लिया

    अब तो मेरा घर भी घर न रहा

    पत्थर का मकान बन गया

    सुन्दर भाव व्यंजना।

    ReplyDelete
  17. सुन्दर बिम्ब से सजी रचना |

    ReplyDelete
  18. सच! खुद को ही याद दिलाना पड़ता है कि हम मशीन नहीं हैं..

    ReplyDelete
  19. अत्यंत भावपूर्ण एवँ भीगी-भीगी सी कोमल रचना ! प्राकृतिक हरियाली से सुसज्जित मिट्टी की सोंधी-सोंधी खुशबू से गमकते गाँवों की जगह पथरीले शहरों ने ले ली है जो सचमुच बहुत ही कष्टप्रद है ! बहुत ही सुंदर अभिव्यक्ति !

    ReplyDelete
  20. bahuton ke dil ke dard ko roop de diya ......aapne ......

    ReplyDelete
  21. शहर लीलते जा रहे हैं गावों और कसबों को और साथ ही शहरों की मशीनी जिंदगी हावी हो रही है कोमल भावनाओं पर। सुंदर लगी ये प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  22. सचमुच … पत्थर की दुनिया में सब पथरा गया है … मार्मिक रचना

    ReplyDelete
  23. प्यार के इस लहलहाते खेत को
    पकने से पहले ही उजाड़ दिया
    और वहाँ एक शहर बसा लिया------------

    गाँव का सच,भोगे हुए प्रेम का सच, जमीन का सच जहां खेती नहीं
    बाजार बन रहें हैं-----

    आदरणीया वर्तमान का मार्मिक सच लिखा है आपने
    उत्कृष्ट

    सादर

    ReplyDelete
  24. गांव से पत्थर के शहर तक की सफ़रकी खुबसूरत अभिव्यक्ति .....

    ReplyDelete
  25. सुन्दरता व सादगी से सजा आपका लेख हमें आकर्षित करता है अपने पुराने बीते की तरफ
    नयी पोस्ट = हिंदी टाइपिंग साफ्टवेयर डाउनलोड करें

    ReplyDelete
  26. sundar bhav se bhari rachna .....

    ReplyDelete
  27. गांवों में फैलता शहर
    वैसा ही जैसे शाम की खूबसूरती पर धीरे धीरे अँधेरा पर्दा दाल रहा हो

    सादर !

    ReplyDelete
  28. संवेदन शील मन कि भाषा अक्सर लोग कहाँ समझ पाते हैं ..
    मंगलकामनाएं !

    ReplyDelete
  29. वाह...उत्तम लेखन ...दीपावली की शुभकामनाएं.....

    ReplyDelete
  30. सुंदर अभिव्यक्ति !
    दीपावली की शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  31. बहुत सुन्दर.. आप को दीपावली पर्व की हार्दिक शुभकामनाएँ।

    ReplyDelete
  32. भावपूर्ण कोमल रचना ..........दीपावली पर्व की हार्दिक शुभकामनाएँ।

    ReplyDelete
  33. पिछले २ सालों की तरह इस साल भी ब्लॉग बुलेटिन पर रश्मि प्रभा जी प्रस्तुत कर रही है अवलोकन २०१३ !!
    कई भागो में छपने वाली इस ख़ास बुलेटिन के अंतर्गत आपको सन २०१३ की कुछ चुनिन्दा पोस्टो को दोबारा पढने का मौका मिलेगा !
    ब्लॉग बुलेटिन के इस खास संस्करण के अंतर्गत आज की बुलेटिन प्रतिभाओं की कमी नहीं 2013 (11) मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  34. बहुत खूब !खूबसूरत रचना,। सुन्दर एहसास .
    शुभकामनाएं.

    ReplyDelete
  35. गाँवों के शहरीकरण का मर्मस्पर्शी चित्रण

    ReplyDelete
  36. आजकल के इस शहरीकरण युग में गावों पीछे ही छूटे जा रहे है

    ReplyDelete