abhivainjana


Click here for Myspace Layouts

Followers

Friday, 16 August 2013

अखण्ड़ भारत का सपना


पग-पग पर फैले भ्रष्टाचार से

खोखले वादे और अत्याचार से

प्रजातांत्रिक तानाशाही की मार से

परेशान आज हर इंसान है

मुद्दों पर गरमाती यहाँ राजनितियाँ

नोट से वोट का यहाँ व्यापार है

भ्रष्ट, मक्कार, स्वार्थी नेता

बने देश के सूत्रधार हैं

पेट के खातिर

बेचती जिस्म यहाँ

 घर की बेटियाँ

भूखे पेट की आग में

सिकतीं यहाँ रोटियाँ

अखण्ड़ भारत का सपना

खण्ड़-खण्ड़ हो गया

कहाँ खो गया,वो स्वर्णिम भारत

कण-कण देश का पूछ रहा


  ***********

महेश्वरी कनेरी

28 comments:

  1. हम लायेंगे वापस वो स्वर्णिम काल...
    यही संकल्प लेने को प्रेरित करती है कविता!

    ReplyDelete
  2. वह सपना शायद सपना बनकर ही रह गया सार्थक भाव लिए सशक्त अभिव्यक्ति।

    ReplyDelete
  3. वह स्वप्न अवश्य सच होगा...मार्मिक रचना !

    ReplyDelete
  4. सत्य से रु ब रु करती सुंदर अभिव्यक्ति ।

    ReplyDelete
  5. मार्मिक रचना
    सुंदर अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  6. सुंदर रचना।।।

    ReplyDelete
  7. Rachana hr desh bhakt ki aatma ko jhakjhorne me poori tarah sakshm hai .....bilkul aj ke bharat ka sachchha bimb dikha diya hai ap na ,,,,,,,sachchai to ye hai ki Gore angrej gaye aur ab Kale angrej aa gaye ...hm tb bhi gulam the aur aaj bhi bhrstachari netaon ke ke gulam hain ......jane kab swatantr hoga yah desh ? bahut bahut aabhar apka .

    ReplyDelete
  8. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टी का लिंक कल शनिवार (17-08-2013) को "राम राज्य स्थापित हो पाएगा" (शनिवारीय चर्चा मंच-अंकः1339) पर भी होगा!
    स्वतन्त्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ...!
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete


  9. ♥ वंदे मातरम् ! ♥
    !!==–..__..-=-._.
    !!==–..__..-=-._;
    !!==–..@..-=-._;
    !!==–..__..-=-._;
    !!
    !!
    !!
    !!
    भ्रष्ट, मक्कार, स्वार्थी नेता
    बने देश के सूत्रधार हैं

    इन्हें उखाड़ फैंकना हमारा ही दायित्व है...

    आदरणीया महेश्वरी कनेरी जी
    अच्छी सामयिक रचना के लिए आभार !
    बधाई !

    ...शुभकामनाओं सहित
    -राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  10. स्वर्णिम भारत का सपना पूरा होगा
    वक़्त आ गया है परिवर्तन का ….सुन्दर अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  11. अखण्ड़ भारत का सपना
    खण्ड़-खण्ड़ हो गया
    कहाँ खो गया,वो स्वर्णिम भारत
    कण-कण देश का पूछ रहा,,,

    सुंदर सामयिक रचना के लिए आभार !और बधाई !

    स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाए,,,
    RECENT POST: आज़ादी की वर्षगांठ.

    ReplyDelete
  12. बहुत बढ़िया समसामयिक अभिव्यक्ति!!

    ReplyDelete
  13. नोट से वोट का यहाँ व्यापार है

    भ्रष्ट, मक्कार, स्वार्थी नेता

    बने देश के सूत्रधार हैं.


    वास्तविकता को उजागर करती सुन्दर रचना
    latest os मैं हूँ भारतवासी।
    latest post नेता उवाच !!!

    ReplyDelete
  14. सपना पूरा होने का वक्त आ गया है ......इस बार चूकना नही !
    शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  15. कल 18/08/2013 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद..यशवन्त..

      Delete
  16. कहाँ खो गया,वो स्वर्णिम भारत

    कण-कण देश का पूछ रहा
    sundar rachna ....maheshwari ji

    ReplyDelete
  17. ये सपना एक दिन जरुर पूरा होगा ..गर हम सब चाह ले ....
    हमारी चाहत जब अंग्रेजो से मुक्ति दिला सकती है तो फिर ...ये तो कुछ भी नही ...जय हिन्द

    ReplyDelete
  18. सब बढ़ जायें, एक दिशा में..

    ReplyDelete
  19. बहुत सुंदर...... अपने देश का मान सदा बना रहे ....

    ReplyDelete
  20. खोया भारत हमें ही वापिस लाना है ।

    ReplyDelete
  21. बहुत सुन्दर और सटीक अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  22. मार्मिक रचना ..
    आभार आपका !

    ReplyDelete
  23. सुन्दर अभिव्यक्ति

    ReplyDelete