abhivainjana


Click here for Myspace Layouts

Followers

Sunday, 19 May 2013

हम भी चुनौती बन गए ज़माने के लिए…..( मेरी १००वी पोस्ट )


                   मेरी  १००वी  पोस्ट 

         हम भी चुनौती बन गए ज़माने के लिए…..


 दर्द का सैलाब बन कर उठा

हमें मिटाने के लिए

हम भी चुनौती बन गए

ज़माने के लिए…..

वक्त की हर चाल हम पर

तिरछी पड़ती रही

हादसे पर हादसे होते रहे

हमें झुकाने के लिए

हम भी चुनौती बन गए

ज़माने के लिए…..

आँसू पीकर भी हम मुस्काते रहे

खुशी का ज़ज्बा जुटाते रहे

पता था वो तो जि़द्द में बैठे थे

हमें रुलाने के लिए

हम भी चुनौती बन गए

ज़माने के लिए…..

रास्ते और भी तो हैं

हम तो साथ चले थे सिर्फ

साथ निभाने के लिए

हम भी चुनौती बन गए

ज़माने के लिए…..

सुना था बंद मुठ्ठी लाख की

खुली तो खाक की

हमने तो मुट्ठी खोली ही नहीं

खुद को भरमाने के लिए

हम भी चुनौती बन गए

ज़माने के लिए…..

सब कुछ नही मिलता ज़माने में

जो मिला माथे से लगा लिया

बस थोडी सी दुआ चाहिए

जि़न्दगी बिताने के लिए

हम भी चुनौती बन गए

ज़माने के लिए……..

*************

आज मैं अपनी १००वी  पोस्ट  प्रकाशित करते हुए आप सब के प्रति आभारी हूँ..आप सब की 

शुभकामनाएं  प्यार और स्नेह के कारण मुझे ऐसा सुअवसर मिला..आगे भी ऐसे ही अपना स्नेह 

बनाए रखना...


महेश्वरी कनेरी 

37 comments:

  1. १००वी पोस्ट की हार्दिक बधाई... सृजन का सफ़र यूँ ही निरंतर जारी रहे... शुभकामनायें....

    ReplyDelete
  2. जी, बहुत बहुत शुभकामनाएं,
    अच्छी रचना

    ReplyDelete
  3. इतनी सुन्दर १००वी पोस्ट के लिए तहेदिल से बधाई आपको |इसी प्रकार लिखती रहें ऐसी कामना के साथ |
    आशा

    ReplyDelete
  4. सुना था बंद मुठ्ठी लाख की
    खुली तो खाक की
    हमने तो मुट्ठी खोली ही नहीं
    खुद को भरमाने के लिए
    मेरी सच्चाई आपकी खूबसूरत लेखनी
    100वीं पोस्ट के लिए बहुत-बहुत बधाई दीदी
    और
    ढेरों शुभकामनायें आने वाले अनगिनत रचनाओं के लिए
    सादर

    ReplyDelete
  5. जूझते रहना पड़ेगा, हमें हर समय।

    ReplyDelete
  6. 100 वीं पोस्ट के लिए बहुत बहुत बधाई !!मेरी शुभकामना आपके साथ है....

    ReplyDelete
  7. १००वी पोस्ट की हार्दिक बधाईयां.

    ReplyDelete
  8. थोडी सी दुआ ही नहीं आसमान जितना दुआ है..शुभकामनायें..

    ReplyDelete
  9. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन ब्लॉग पोस्टों का किंछाव - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  10. शानदार शतक ....खूब सारी दुआ और ..ढेर सारी शुभकामनायें .....!!

    ReplyDelete
  11. बहुत सुंदर रचना, 100 वीं पोस्ट की हार्दिक बधाई.

    रामराम.

    ReplyDelete
  12. ज़माने के लिए चुनौती....
    बधाई 100 वीं पोस्ट के लिए...
    लेखनी चलती रहे अनवरत....

    शुभकामनाएं.

    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  13. खूबसूरत सोच .......१००वीं पोस्ट की बधाई

    ReplyDelete
  14. बहुत ही सुन्दर और प्रेरक अभिव्यक्ति। ऐसे ही और कई सारे नाबाद शतकों की कामना है हम सभी को ..
    सादर
    मधुरेश

    ReplyDelete
  15. हार्दिक बधाई ....प्रेरक पोस्ट

    ReplyDelete
  16. माहेश्वरी जी, आपके इस विश्वास को देखकर अभिभूत हूँ..बहुत बहुत बधाई और स्नेह भरी शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  17. 'चुनौती'एक प्रेरक एवं अनुकरणीय सलाह है सभी को इसका साहस पूर्वक सामना करना चाहिए। आपको आपके साहस एवं सौवीं पोस्ट के लिए हार्दिक शुभकामनायें। बरेली के दौरान (भाग-3)---विजय राजबली माथुर

    ReplyDelete
  18. बहुत बहुत बधाई आंटी


    सादर

    ReplyDelete
  19. १०० वीं रचना के लिए बहुत बहुत बधाई. उम्दा कलम को नमन...

    ReplyDelete
  20. बहुत - बहुत बधाई .... सहित अनंत शुभकामनाएं

    सादर

    ReplyDelete
  21. बहुत बधाई माँ सरस्वती की कृपा बनी रहे .

    ReplyDelete
  22. हादसे पर हादसे होते रहे

    हमें झुकाने के लिएwaah jhukaya usi ko jata hai jo uncha uthta ho .....badhai ....100 wi post ke liye kaneri jee ...

    ReplyDelete
  23. 100 ve post ke liye bahut bahut badhaiyan ...ye karvan bahut door tak jaaye yahi shubhkamnaye hai ...

    ReplyDelete

  24. बहुत सुंदर .बेह्तरीन अभिव्यक्ति शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  25. हाय...मैं इतनी देर से क्यूँ आई यहाँ...इतनी प्यारी कविता और पहले पढ़ना था...आप यूँ ही चुनौती बनी रहें दी...ताकि हम दो सौंवीं पोस्ट की बधाई दे सकें...बहरहाल सौवीं पोस्ट के लिए हार्दिक बधाई !!

    ReplyDelete
  26. १०० वी पोस्ट की हार्दिक बधाई...
    लेखन का सफ़र निरंतर जारी रहे.बहुत२ शुभकामनायें...

    Recent post: जनता सबक सिखायेगी....

    ReplyDelete
  27. बहुत अच्छी प्रस्तुति....१०० वी पोस्ट की बहुत बहुत बधाई...

    ReplyDelete
  28. दर्द का सैलाब बन कर उठा
    हमें मिटाने के लिए
    हम भी चुनौती बन गए
    ज़माने के लिए…..----

    वाह शतकीय पोस्ट पर सार्थक चेतावनी

    १ ० ० वीं पोस्ट पर बधाई और शुभकामनायें
    कामना है सृजन की यह अनुभूति सदैव बरक़रार रहे
    सादर

    ReplyDelete
  29. वाह ...
    बधाई स्वीकारें !
    आप आदर योग्य हैं !

    ReplyDelete
  30. मानव जीवन चुनौतियों से भरी है
    और इन चुनौतियों का सामना तो करना ही पड़ता है
    बहुत ही सार्थक और प्रभावकारी
    सादर !

    ReplyDelete
  31. 100वी पोस्ट की बहुत बहुत बधाई
    और बहुत ही अच्छी रचना।

    ReplyDelete
  32. बहुत सुन्दर...१००वीं पोस्ट की बधाई और शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  33. सच कहा है चुनौती का सामना करना से समस्या का समाधान निकलता है.

    सुंदर रचना

    शुभकामनायें

    ReplyDelete
  34. हम भी चुनौती बन गए

    ज़माने के लिए…..

    वाह!
    सौवीं पोस्ट की बधाई!

    ReplyDelete