abhivainjana


Click here for Myspace Layouts

Followers

Wednesday, 18 January 2012

एक चिनगारी


एक चिनगारी
सरदी से कँपकपाता मौसम
मुँह से निकलता धूआँ
जलने को अब क्या बचा
चन्द अरमान और चन्द सपने….?
उन्हें भी जला हाथ सेकते रहे
देखते ही देखते
सब सपने खाक हुये
जल कर सब राख हुए
कँपकपाहट फिर भी कम न हुई
बस था धूआँ ही धूआँ…
लेकिन …
अब भी एक चिनगारी दबा रखी है मैंने
शायद अगले वर्ष काम आ जाए..
******
महेश्वरी कनेरी…


40 comments:

  1. अब भी एक चिनगारी दबा रखी है मैंने
    शायद अगले वर्ष काम आ जाए..

    बहुत ही बढ़िया आंटी।

    सादर

    ReplyDelete
  2. अदभुत बहुत सुन्दर,,,
    बधाई हो आपको

    ReplyDelete
  3. अब भी एक चिनगारी दबा रखी है मैंने
    शायद अगले वर्ष काम आ जाए... बिल्कुल... चिंगारी न हो तो परिवर्तन की आग लगेगी कैसे

    ReplyDelete
  4. अब भी एक चिनगारी दबा रखी है मैंने
    शायद अगले वर्ष काम आ जाए..
    वाह ...बहुत खूब ।

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर...
    जाने कबसे राह देख रही थी आपकी रचना की...
    सादर.

    ReplyDelete
  6. अब भी एक चिनगारी दबा रखी है मैंने! :) bahut achchi lagi rachna!

    ReplyDelete
  7. बहुत खूब ....मन में दबी चिंगारी ने ...शब्दों का रूप ले लिया ...

    ReplyDelete
  8. न चाहतें मिटतीं हैं न हौसले पस्त होतें हैं बस आदमी एक दिन चुक जाता है ,आदमियत फिर भी नहीं चुकती .अच्छी रचना पढवाई आपने 'चिंगारी एक बाकी है शायद अगले बरस काम आये ...हम हों न हों चिंगारी तो रहे ...

    ReplyDelete
  9. वाह...बेजोड़ रचना...बधाई

    नीरज

    ReplyDelete
  10. काश बँधकर रहे ऊष्मा..

    ReplyDelete
  11. अब भी एक चिनगारी दबा रखी है मैंने
    शायद अगले वर्ष काम आ जाए..
    ******
    ....मन में दबी चिंगारी ने ...शब्दों का रूप ले लिया ...

    ReplyDelete
  12. आपकी किसी नयी -पुरानी पोस्ट की हल चल बृहस्पतिवार 19- 01 -20 12 को यहाँ भी है

    ...नयी पुरानी हलचल में आज... जिंदगी ऐसे भी जी ही जाती है .

    ReplyDelete
  13. इस पर मेरी टिप्पणी नहीं दिखाई दे रही ... डैश बोर्ड से कमेंट्स के स्पैम में देखिये

    ReplyDelete
  14. बहुत सुंदर रचना बेहतरीन पोस्ट
    welcome to new post...वाह रे मंहगाई

    ReplyDelete
  15. सच्चाई का बोध कराती लाजवाब रचना ।

    ReplyDelete
  16. भाव गहरे हैं..शब्द सुनहरे हैं ..
    मन को छु गयी
    kalamdaan.blogspot.com

    ReplyDelete
  17. एक चिन्गारी सुलगती रहनी चाहिये ………जीने के लिये

    ReplyDelete
  18. बहुत सुन्दर शब्द रचना |

    ReplyDelete
  19. इस चिंगारी को यूहीं दबाए रखिये.यह उर्जा का एक अदभूत स्रोत है..
    बहुत सुन्दर...

    ReplyDelete
  20. चिंगारी बुझने ने पाए..बहुत बढ़िया

    ReplyDelete
  21. अब भी एक चिनगारी दबा रखी है मैंने

    शायद अगले वर्ष काम आ जाए..

    बहुत सुंदर अभिव्यक्ति...बधाई!

    ReplyDelete
  22. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  23. मैंने आपकी ब्लॉग पर पहली टिपण्णी की थी ,वो तो दिख ही नहीं रही है ....

    ReplyDelete
  24. एक -न -एक चिंगारी तो शेष रहनी ही चाहिए ....अर्थपूर्ण रचना

    ReplyDelete
  25. आपकी पोस्ट आज के चर्चा मंच पर प्रस्तुत की गई है
    कृपया पधारें

    ReplyDelete
  26. इस जीवन में जीने के लिए एक चिंगारी तो हमेशा बरकरार रहनी ही चाहिए....

    ReplyDelete
  27. अच्छी रचना ........
    बधाई ...
    मेरी नयी कविता तो नहीं उस जैसी पंक्तियाँ " जोश "पढने के लिए मेरे ब्लॉग पे आयें...
    http://dilkikashmakash.blogspot.com/

    ReplyDelete
  28. इस चिंगारी को सुलगने दो ....

    ReplyDelete
  29. yahi dabi chingari jeene ka sabab hai...ye bachi rahe to behtar hai...varna aur kya rakha hai jindgi k paimane me.

    ReplyDelete
  30. पहली बार आपकी ब्लॉग पर आया ...
    सच कहा आपने....मेरे अंदर की चिंगारी अभी जिंदा है ॥
    मेरे भी ब्लॉग पर आकर मार्ग दर्शन करे

    ReplyDelete
  31. खूब , मन को उद्वेलित करते भाव.....

    ReplyDelete
  32. चिंगारी तो बहुत कुछ कर सकती है

    ReplyDelete
  33. बेहतरीन रचना पढवाने के लिए सादर आभार.

    ReplyDelete
  34. jinda chingari se nikle bhav se nikli rachnaon ka swagat aur entjar rahega.

    ReplyDelete
  35. आपका पोस्ट अच्छा लगा । मेरे नए पोस्ट "धर्मवीर भारती" पर आपका सादर आमंत्रण है । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  36. उम्मीद की यही चिंगारी शेष रह जाती है.उद्वेलित करती रचना.वाह !!!!

    ReplyDelete
  37. दबी हुई चिंगारी उचित समय पर शोला बन जाती है।
    भावप्रवण कविता।

    ReplyDelete