abhivainjana


Click here for Myspace Layouts

Followers

Friday, 12 August 2011

ये पन्द्रह अगस्त


ये पन्द्रह अगस्त……….

सदियों के संघर्षो की,
सुलगती वेदनाओं की,
सिसकते आँसुओं की,
बुझते चिरागों की,
सरहदों पर रणबाँकुरों की.
मातृ-भूमि के सपूतों की,
शहीदों के बलिदानों की,
न्योछावर हुए दीवानों की,
आजादी के परवानों की,
न जाने कितनी अथक कहानियाँ
याद दिला जाती है
  ये पन्द्रह अगस्त……….
कल का भारत
 जय हिन्द.... जय भारत

46 comments:

  1. सही कहा आपने ...ये पंद्रह अगस्त हर साल बहुत कुछ याद दिला जाती है ..जय हिंद .वन्दे मातरम

    ReplyDelete
  2. 15 अगस्त सभी भारतवासियों के लिए गर्व का दिन है।

    सादर

    ReplyDelete
  3. yahan bhi ye din bahut hi bade paemane pr manaya jata hai,
    aapki kavita bahut i achchhi hai aapne satya kaha ki bahut kuchh yad aata hai pr keval aaj ke hi din
    rachana

    ReplyDelete
  4. उन वीरों को याद करना है हमें।

    ReplyDelete
  5. बहुत ही सुंदर.. बहुत कुछ याद दिलाती है...नमन उन वीरों के बलिदान को

    ReplyDelete
  6. काश यह सब सच्चे मन से सारे भारतवासी याद रख सकें ... खास तौर पर नेता .बहुत अच्छी प्रस्तुति

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर सारगर्भित रचना , सुन्दर भावाभिव्यक्ति , आभार
    रक्षाबंधन एवं स्वाधीनता दिवस के पावन पर्वों की हार्दिक मंगल कामनाएं.

    ReplyDelete
  8. बहुत अच्छी प्रस्तुति है!
    रक्षाबन्धन के पुनीत पर्व पर हार्दिक शुभकामनाएँ!
    15 अगस्त की भी शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  9. बहुत सुन्दर और सार्थक अभिव्यक्ति.. रक्षाबंधन और स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  10. सच है,
    बहुत बहुत मुबारक हो स्वतंत्रता दिवस

    ReplyDelete
  11. सही कहा! स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  12. सच कहा आपने बहुत बहुत ऐसी यादें सिमटी हैं दिल में सच वो सच्चे उपासक थे. हैं और हमेशा रहेंगे....
    बहुत ही अच्छे से आपने अपने भाव प्रकट किये हैं हमारे देश भारत के वीरों के लिए....

    पहली बार आना बहुत अच्छा लगा आपके ब्लॉग पर...

    कई जिस्म और एक आह!!!

    ReplyDelete
  13. जो शहीद हुए हैं उनकी, जरा याद करो कुर्बानी...।
    15 अगस्त बहुत कुछ याद दिलाता है।
    अच्छी कविता।
    बधाई।

    ReplyDelete
  14. उन वीरों की यादों को ताज़ा रखना है और देश के हित में काम करना है ... स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनाएं ...

    ReplyDelete
  15. स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ !

    ReplyDelete
  16. हमारे वीर शहीदों को नमन ..स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनायें ..जय हिंद

    ReplyDelete
  17. स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं. काश भारत अब नवनिर्माण की ओर अग्रसर हो!

    ReplyDelete
  18. स्वाधीनता दिवस की हार्दिक मंगलकामनाएं।

    ReplyDelete
  19. स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक बधाई और शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  20. सच कहा है बहुत कुछ याद दिलाती है...सुंदर और सार्थक प्रस्तुति. स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनायें...
    सादर,
    डोरोथी.

    ReplyDelete
  21. सुन्दर अभिव्यक्ति के साथ भावपूर्ण कविता लिखा है आपने! शानदार प्रस्तुती!
    आपको एवं आपके परिवार को स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनायें!
    मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://seawave-babli.blogspot.com/
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/

    ReplyDelete
  22. आपको स्वतंत्रता दिवस की बधाई और शुभकामनाएं |सुंदर कविता

    ReplyDelete
  23. आप सभी को हार्दिक धन्यवाद ....और बहुत-बहुत शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  24. bahut dard hai jo aaj ke din man par chha jata hai..aur aazadi ki khushi ko daba deta hai.

    sunder post.

    ReplyDelete
  25. स्वतंत्रता दिवस की मंजिल तक पहुचने पर पीछे मुड़कर देखते हैं
    त्याग ओर बलिदान के भाव पूर्ण कई पल जीवंत हो जाते हैं एक वृहद इतिहास उठकर खड़ा हो जाता ....अमर सहीदों को कोटि कोटि नमन ....सुन्दर भावपूर्ण प्रस्तुति के लिए कोटि कोटि अभिनन्दन !!!

    ReplyDelete
  26. स्वतंत्रता दिवस की बधाई और शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  27. यह दिन बहुत कुछ याद दिलाता है , मगर हमें यही सब रोज याद रखने का प्रण करना है...
    आभार एवं शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  28. बहुत ही अच्‍छी शब्‍द रचना ..स्‍वतंत्रता दिवस की शुभकामनाएं ।

    ReplyDelete
  29. माहेश्वरी कनेरी जी कैसे बची रही यह विचारों के झरने के आवेग से निकली रचना हमारी नजर से ?
    आजादी के परवानों की,
    न जाने कितनी अथक कहानियाँ
    याद दिला जाती है
    ये पन्द्रह अगस्त……….
    हो तो गए स्वतंत्र, हमारी
    क्या मिट सकी उदासी।
    Tuesday, August 16, 2011
    उठो नौजवानों सोने के दिन गए ......http://kabirakhadabazarmein.blogspot.com/
    सोमवार, १५ अगस्त २०११
    संविधान जिन्होनें पढ़ लिया है (दूसरी किश्त ).
    http://veerubhai1947.blogspot.com/
    मंगलवार, १६ अगस्त २०११
    त्रि -मूर्ती से तीन सवाल .

    ReplyDelete
  30. न्योछावर हुए दीवानों की,
    आजादी के परवानों की,
    न जाने कितनी अथक कहानियाँ
    याद दिला जाती है
    ये पन्द्रह अगस्त……….सलाम आपके ज़ज्बे को द्रुत उत्साहवर्धक टिपण्णी के लिए .
    Tuesday, August 16, 2011
    उठो नौजवानों सोने के दिन गए ......http://kabirakhadabazarmein.blogspot.com/
    सोमवार, १५ अगस्त २०११
    संविधान जिन्होनें पढ़ लिया है (दूसरी किश्त ).
    http://veerubhai1947.blogspot.com/
    मंगलवार, १६ अगस्त २०११
    त्रि -मूर्ती से तीन सवाल .

    ReplyDelete
  31. बहुत सुन्दर और सार्थक रचना |आजादी की 65वीं वर्षगाँठ पर बहुत-बहुत शुभकामनाएँ |

    ReplyDelete
  32. सच में आज बलिदान यी याद रखना चाहिए ....!!
    वन्दे मातरम ...
    बहुत सुंदर पोस्ट....
    शुभकामनायें....!!

    ReplyDelete
  33. सार्थक अभिव्यक्ति...........

    ReplyDelete
  34. सरहदों पर रणबाँकुरों की.
    मातृ-भूमि के सपूतों की,
    शहीदों के बलिदानों की,
    न्योछावर हुए दीवानों की,
    आजादी के परवानों की,
    न जाने कितनी अथक कहानियाँ
    याद दिला जाती है....

    Very inspiring creation .

    .

    ReplyDelete
  35. नमस्कार....
    बहुत ही सुन्दर लेख है आपकी बधाई स्वीकार करें
    मैं आपके ब्लाग का फालोवर हूँ क्या आपको नहीं लगता की आपको भी मेरे ब्लाग में आकर अपनी सदस्यता का समावेश करना चाहिए मुझे बहुत प्रसन्नता होगी जब आप मेरे ब्लाग पर अपनी उपस्थिति दर्ज कराएँगे तो आपकी आगमन की आशा में पलकें बिछाए........
    आपका ब्लागर मित्र
    नीलकमल वैष्णव "अनिश"

    इस लिंक के द्वारा आप मेरे ब्लाग तक पहुँच सकते हैं धन्यवाद्

    1- MITRA-MADHUR: ज्ञान की कुंजी ......

    2- BINDAAS_BAATEN: रक्तदान ...... नीलकमल वैष्णव

    3- http://neelkamal5545.blogspot.com

    ReplyDelete
  36. bahut achchhi rachna hai ,hame is jhande ki hifajat har haal me karna chahiye .jai hind

    ReplyDelete
  37. आदरणीया माहेश्वरी कनेरी जी पन्द्रह अगस्त पर सुंदर पोस्ट ब्लॉग पर आने के लिए आभार

    ReplyDelete
  38. मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://seawave-babli.blogspot.com/
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/

    ReplyDelete
  39. aadarniy maheshwari di
    in chooti chhoti panktiyon ne to waqai bahut kuchh yaad dila diya.bahut hi sundar rachna ,gagar me sgar jaisi
    bahut bahut badhai
    hardik abhinandan ke saath
    poonam

    ReplyDelete
  40. स्वतंत्रता सेनानियों के अथक प्रयासों को नमन करते हुए इस श्रद्धांजलि में एक सुर मेरा भी मिला लीजिए

    ReplyDelete
  41. सही कहा आपने ........

    ReplyDelete
  42. इस दुर्योधन की सेना में सब शकुनी हैं ,एक भी सेना पति भीष्म पितामह नहीं हैं ,शूपर्ण -खा है ,मंद मति बालक है जिसे भावी प्रधान मंत्री बतलाया समझाया जा रहा है .एक भी कृपा -चारी नहीं हैं काले कोट वाले फरेबी हैं जिन्होनें संसद को अदालत में बदल दिया है ,तर्क और तकरार से सुलझाना चाहतें हैं ये मुद्दे .एक अरुणा राय आ गईं हैं शकुनियों के राज में ,ये "मम्मीजी" की अनुगामी हैं इसीलिए सरकारी और जन लोक पाल दोनों बिलों की खिल्ली उड़ा रहीं हैं.और हाँ इस मर्तबा पन्द्रह अगस्त से ज्यादा महत्वपूर्ण हो गया है सोलह अगस्त अन्नाजी ने जेहाद का बिगुल फूंक दिया है ,मुसलमान हिन्दू सब मिलकर रोजा खोल रहें हैं अन्नाजी के दुआरे ,कैसा पर्व है अपने पन का राष्ट्री एकता का ,देखते ही बनता है ,बधाई कृष्णा ,जन्म दिवस मुबारक कृष्णा ...... ram ram bhai

    शनिवार, २० अगस्त २०११
    कुर्सी के लिए किसी की भी बली ले सकती है सरकार ....
    स्टेंडिंग कमेटी में चारा खोर लालू और संसद में पैसा बंटवाने के आरोपी गुब्बारे नुमा चेहरे वाले अमर सिंह को लाकर सरकार ने अपनी मनसा साफ़ कर दी है ,सरकार जन लोकपाल बिल नहीं लायेगी .छल बल से बन्दूक इन दो मूढ़ -धन्य लोगों के कंधे पर रखकर गोली चलायेगी .सेंकडों हज़ारों लोगों की बलि ले सकती है यह सरकार मन मोहनिया ,सोनियावी ,अपनी कुर्सी बचाने की खातिर ,अन्ना मारे जायेंगे सब ।
    क्योंकि इन दिनों -
    "राष्ट्र की साँसे अन्ना जी ,महाराष्ट्र की साँसे अन्ना जी ,
    मनमोहन दिल हाथ पे रख्खो ,आपकी साँसे अन्नाजी .
    http://veerubhai1947.blogspot.com/
    Saturday, August 20, 2011
    प्रधान मंत्री जी कह रहें हैं .....

    http://kabirakhadabazarmein.blogspot.com/

    ReplyDelete
  43. लोकपाल बिल बनने से कुछ हो या न हो लेकिन लोगों को कुछ पा लेने का अहसास तो हो ही जाएगा।
    हम तो शुरू से ही कह रहे हैं कि सच्चे रब से डरो, जैसी उसकी ढील है वैसी ही सख्त उसकी पकड़ है।
    अभी इंटेलेक्चुअल बने घूम रहे हैं लेकिन अगर भूकंप, बाढ़ और युद्धों ने घेर लिया तो कोई भी फ़िलॉस्फ़र बचा न पाएगा।
    ईमानदारी के लिए ईमान चाहिए और वह रब को माने बिना और रब की माने बिना मिलने वाला नहीं है।
    लोग उससे हटकर ही अपने मसले हल कर लेना चाहते हैं,
    यही सारी समस्या है।
    ख़ैर ,
    आज सोमवार है और ब्लॉगर्स मीट वीकली 5 में आ जाइये और वहां शेर भी हैं।

    ReplyDelete