abhivainjana


Click here for Myspace Layouts

Followers

Thursday, 26 June 2014

खिलखिलाती रही



कतरा कतरा बन

जि़न्दगी गिरती रही

समेट उन्हें,मै 

यादों में सहेजती रही

अनमना मन मुझसे

क्या मांगे,पता नहीं

पर हर घड़ी धूप सी

मैं ढलती रही

रात, उदासी की चादर

उढा़ने को आतुर बहुत

पर मैं तो

चाँद में ही अपनी

खुशी तलाशती रही

और चाँदनी सी 

खिलखिलाती रही

********

महेश्वरी कनेरी

29 comments:

  1. हमेशा खिलखिलाती ही रहियेगा दीदी
    सादर
    अच्छी लगी रचना

    ReplyDelete
  2. येही जीवन है, बस बढ़ते जाना चाहे कोई भी परिस्थिति हो:) बहुत ही सुन्दर अभिव्यक्ति.

    ReplyDelete
  3. आपकी यह उत्कृष्ट प्रस्तुति कल शुक्रवार (27.06.2014) को "प्यार के रूप " (चर्चा अंक-1656)" पर लिंक की गयी है, कृपया पधारें और अपने विचारों से अवगत करायें, वहाँ पर आपका स्वागत है, धन्यबाद।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार राजेन्द्र जी आप का

      Delete
  4. बहुत ही सुन्दर.... शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  5. सुंदर भाव..धूप से ढलना और चाँदनी से खिलखिलाना सीख लें तो बस और क्या ?

    ReplyDelete
  6. dher sari khushiyan ham sab ko mile yahi to hamari chahat hai..........sundar bhav....

    ReplyDelete
  7. अनुभूतियों और भावनाओं का सुंदर समवेश इस खूबसूरत प्रस्तुति में

    ReplyDelete
  8. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन नायब सूबेदार बाना सिंह और २६ जून - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार

      Delete
  9. गुणात्मक भाव लिए बहुत सुन्दर रचना !
    उम्मीदों की डोली !

    ReplyDelete
  10. और चाँदनी सी हर दम
    खिलखिलाती रही...सुंदर भाव

    ReplyDelete
  11. सुन्दर रचना।

    ReplyDelete
  12. जीवन खिलखिलाने को ही तो है ,सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  13. सुंदर कोमल अभिव्यक्ति ! मंगलकामनाएं आपको !!

    ReplyDelete
  14. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  15. महेश्वरी जी ,यही तो मानव मन है कि उदासी व विसंगतियों से अलग एक शान्त मीठी सी दुनिया बसाना चाहता है । वह अँधेरों से परे चाँदनी में रमना चाहता है यह बात अलग है कि यह चाहत अक्सर पूरी नही होती । ऐसे ही भावों से सजी यह अच्छी कविता है ।

    ReplyDelete
  16. जीवन में सुख दुःख में समान रूप से खिलखिलाते रहना ही जीवन की सफलता है...बहुत ख़ूबसूरत अहसास और उनकी सुन्दर अभियक्ति...

    ReplyDelete
  17. सुंदर प्रस्तुति , आप की ये रचना चर्चामंच के लिए चुनी गई है , सोमवार दिनांक - १३ . ७ . २०१४ को आपकी रचना का लिंक चर्चामंच पर होगा , कृपया पधारें धन्यवाद !

    ReplyDelete
  18. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  19. सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  20. उम्दा रचना और बेहतरीन प्रस्तुति के लिए आपको बहुत बहुत बधाई...
    नयी पोस्ट@जब भी सोचूँ अच्छा सोचूँ

    ReplyDelete