abhivainjana


Click here for Myspace Layouts

Followers

Monday, 30 September 2013

एक सुखद यादगार

लोकार्पण 
                एक सुखद यादगार

जिन्दगी में कुछ पल ऐसे आते हैं जो एक सुखद यादगार बन अकसर मन को गुदगुदाने लगते हैं ऐसा ही सुखद पल २२ सितम्बर को मेरे जीवन में भी आया ,जब मैंने अपनी पुस्तकसरस अनुभूतिका लोकार्पण किया था। मेरे अनुभव की किताब में एक और पन्ना जुड़ रहा था, ये बात खुशी की है,मैं जानती थी ,पर ये नही जानती थी कि ये पल मुझे इतना आत्म विभोर कर जाएगा कि जिसे मैं कभी भूला नहीं पाऊँगी
    सभागार में उपस्थित सभी मित्रबंधु शुभचिन्तक, नए पुराने साथियों को देख मेरा मन गद्गद हो उठा पुराने साथियों में मेरे तीस पैतीस साल पुराने साथी भी सम्मिलित थे ।सबसे सुखद आश्चर्य तो तब हुआ जब कार्य क्रम के अंत में किसी ने मुझ से आकर कहाबहुत बहुत बधाई महेश्वरी जीमै  उन तीन विभूतियों को देखती रही चेहरा तो कुछ जाना पहचाना लगा पर समझ नहीं पारही थी ।उन्होंने फिर कहाआभासी दुनिया के मित्र बस मैं समझ गई.. राजेश कुमारी जी, नूतन गैरोला जी और कल्पना.जी.जिनसे मैं पहली बार मिल रही थी। वो पल मेरे लिए कितना सुखद आश्चर्य से भरा हुआ था कि मैं शब्दों में बया ही नहीं कर सकती, सिर्फ महसूस ही कर सकती हूँ

 राजेश कुमारी जीनूतन गैरोला जी कल्पना.जी.


कार्य क्रम का शुभारंभ सरस्वती वंदना से हुआ जिसे मेरी बेटी स्वाति ने प्रस्तुत किया तद्पश्चात गणेश स्तुति मेरी पोती काशवी ने नृत्य द्वारा प्रस्तुत किया । पुस्तक के लोकार्पण के बाद मेरी ही पुस्तक से एक कविता “कुछ सांस बची है जीने को आज मुझे जी भर जीने दो “को स्वरवद्ध कर स्वाति ने गाकर प्रस्तुत किया ।

 पोती काशवी 
बेटी स्वाति

    ईश्वर की अनुकंपा और सभी साथियों के सहयोग से मेरी पुस्तक सरस अनुभूतिका लोकार्पण बहुत ही गरिमा पूर्वक संपन्न हुआ।.मेरा ये मानना है कि.मेरी पुस्तक सरस अनुभूतिका जन्म स्थल ब्लांग जगत ही है जहाँ पल पल मेरी भावनाओ को नया अहसास मिलता रहा और मैं उन्हें शब्दों में पिरोती रही इसी बीच कब मेरीसरस अनुभूतिका जन्म भी हो गया मुझ पता भी चला।
   मैं अपने ब्लांग जगत के सभी साथियों की ह्रदय से आभारी हूँ जिन्होंने समय समय पर मेरे ब्लांग पर आकर टिप्पणियों द्वारा शुभकामनाओं द्वारा मुझे उत्साहित करते रहे और मेरे मनोबल को बढ़ाते रहे ।बहुत बहुत धन्यवाद ।
 शुभकामनाओ सहित

महेश्वरी कनेरी

32 comments:

  1. हार्दिक शुभकामनायें |

    ReplyDelete
  2. बहुत-बहुत बधाई और हार्दिक शुभकामनायें ...

    ReplyDelete
  3. बहुत बहुत बधाई इस समारोह ओर पुस्तक लोकार्पण की ...

    ReplyDelete
  4. एक सुखद कभी न भूलने वाली शाम अभी भी दिलोदिमाग पर छाई हुई है ,आपकी पुस्तक में आपकी रचनाओं ने भी उसी तरह मन मोह लिया जैसे की पहली मुलाक़ात में आपने खुद हम सब के दिलों में जगह बना ली आपका वो आत्मीयता के साथ मिलना मिलकर खिलखिलाना वाह्ह्ह्ह क्या शाम थी आप इसी तरह मुस्कुराती रहे सफलता के नित नए आयाम गढ़ती रहें यही मंगल कामना करती हूँ ,हाँ आपकी यह पोस्ट कल चर्चा मंच पर भी डाल रही हूँ सस्नेह राजेश कुमारी

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत धन्यवाद राजकुमारी जी..

      Delete
  5. बढ़िया है दीदी-
    शुभकामनायें -
    सादर

    ReplyDelete
  6. ढेर सारी बधाईयाँ दी....और बहुत बहुत शुभकामनाएं....
    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  7. ढ़ेर सारी बधाई...
    बहुत-बहुत शुभकामनाएँ ....
    :-)

    ReplyDelete
  8. आदरणीया ,सादर प्रणाम |
    यह ब्लॉग ही एक ऐसा मंच हैं ,जहाँ आप एवं आप जैसे महान साहित्यकार की रचनाओं कों सीधे पढ़ने और उसपर कमेन्ट करने का अवसर मिलजाता हैं |
    मेरे लिए किसी वरदान से कम नही |
    नई पोस्ट-
    “किन्तु पहुंचना उस सीमा में………..जिसके आगे राह नही!{for students}"

    ReplyDelete
  9. बहुत-बहुत बधाई और हार्दिक शुभकामनायें
    ऐसे दिन कई और आयें बार बार आयें
    कभी हमें भी मिले मौका हम भी मिल पायें !

    ReplyDelete
  10. सुखद अहसास के साथ ....ढेरों शुभकामनाएँ

    ReplyDelete
  11. आपकी इस सुन्दर प्रविष्टि की चर्चा कल मंगलवार १/१० /१३ को राजेश कुमारी द्वारा चर्चामंच पर की जायेगी आपका वहां हार्दिक स्वागत है।

    ReplyDelete
  12. पुस्तक लोकार्पण की ढेर सारी बधाईयाँ और बहुत बहुत शुभकामनाएं .. !

    RECENT POST : मर्ज जो अच्छा नहीं होता.

    ReplyDelete
  13. पुस्तक लोकार्पण की हार्दिक शुभकामनायें........

    ReplyDelete
  14. बहुत बहुत बधाई व शुभकामनायें आदरणीय दीदी

    ReplyDelete
  15. “सरस अनुभूति” के लोकार्पण के लिये हार्दिक शुभकामनाएं.

    रामराम.

    ReplyDelete
  16. सुंदर आयोजन ..... बधाइयाँ आपको

    ReplyDelete
  17. “सरस अनुभूति” के लोकार्पण के लिये हार्दिक शुभकामनाएं.
    बधाइयाँ आपको
    बचपन

    ReplyDelete
  18. आपको ढेरों बधाईयाँ, हमें सरस अनुभूति हो रही है।

    ReplyDelete
  19. लोकार्पण के लिये हार्दिक शुभकामनाएं, बधाई

    ReplyDelete
  20. हार्दिक शुभकामनाएं...हम भी सहभागी हुए..पुन:हार्दिक शुभकामनाएं...

    ReplyDelete
  21. सरस अनुभूति के लोकार्पण पर हार्दिक बधाइयाँ, इन सुखद क्षणों को साझा करने हेतु आभार. जीवन में ऐसे सुखद सदैव आते रहें..........शुभकामनायें.........

    ReplyDelete
  22. बहुत बहुत बधाई ....

    ReplyDelete
  23. हार्दिक बधाई और शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  24. बधाई आपको , बिटिया को सस्नेह आशीर्वाद !

    ReplyDelete
  25. बहुत बहुत बधाई ...और शुभकामनायें !!

    ReplyDelete
  26. हार्दिक बधाई आंटी!

    सादर

    ReplyDelete
  27. सरस अनुभूति” के गरिमामय लोकार्पण संपन्न होने पर हार्दिक शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  28. हार्दिक शुभकामनायें.. ।।

    ReplyDelete
  29. हार्दिक शुभकामनायें.. ।।

    ReplyDelete