abhivainjana


Click here for Myspace Layouts

Followers

Monday, 1 April 2013

सतरंगी संसार

सतरंगी संसार


 आँखों में बसे हैं मेरे 

 सतरंगी एक संसार

खोल कर आँखेँ ,बिखरने दूँ कैसे,

यही तो है मेरे जीने का आधार

              महेश्वरी कनेरी

29 comments:

  1. छोटी मगर गहरे अर्थ लिए क्षणिका

    ReplyDelete
  2. सुन्दर.....
    सदा खिला रहे ये इन्द्रधनुष और खिलखिलाती रहें आप..

    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  3. सपनों का आधार बना रहे !
    शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  4. माहेश्वरी जी, बंद आँखों के पीछे ही छिपा है वह भी...

    ReplyDelete
  5. बहुत ही बढिया ..
    आभार

    ReplyDelete
  6. शुभकामनायें-

    ReplyDelete
  7. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टि की चर्चा कल मंगल वार2/4/13 को चर्चा मंच पर राजेश कुमारी द्वारा की जायेगी आपका वहां स्वागत है

    ReplyDelete
  8. अति सुन्दर ..

    ReplyDelete
  9. बहुत खुबसूरत अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  10. आओ स्वप्न करें हम गाढ़े..

    ReplyDelete
  11. आपका सतरंगी संसार हमेशा सजा-संवरा रहे... शुभकामनायें

    ReplyDelete
  12. सुंदर पंक्तियाँ.... शुभकामनायें

    ReplyDelete
  13. सच! आँखों में बसे सपने ही जीवन का आधार हैं .. वरना जीना निरर्थक सा है ..
    सादर
    मधुरेश

    ReplyDelete
  14. सपने ही जीवन का आधार होते हैं बहुत सुंदर पंक्तियाँ शुभकामनायें...

    ReplyDelete
  15. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    --
    इंजीनियर प्रदीप कुमार साहनी अभी कुछ दिनों के लिए व्यस्त है। इसलिए आज मेरी पसंद के लिंकों में आपका लिंक भी चर्चा मंच पर सम्मिलित किया जा रहा है और आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल बुधवार (03-04-2013) के “शून्य में संसार है” (चर्चा मंच-1203) पर भी होगी!
    सूचनार्थ...सादर..!

    ReplyDelete
  16. बहुत खूब आंटी !

    सादर

    ReplyDelete
  17. आपका सतरंगी संसार सदा खुशियों से भरा रहे...
    शुभकामनाएँ ....
    :-)

    ReplyDelete
  18. सुन्दर अभिव्यक्ति।

    ReplyDelete
  19. सतरंगी संसार सदा आबाद रहे...शुभकामनाएँ !!

    ReplyDelete

  20. कल दिनांक 04/04/2013 को आपकी यह पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जा रही हैं.आपकी प्रतिक्रिया का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद यशवंत..

      Delete
  21. छोटी पर बहुत गहन भाव लिए हुए है



    मेरे ब्लॉग पर भी आइये
    पधारिये आजादी रो दीवानों: सागरमल गोपा (राजस्थानी कविता)

    ReplyDelete
  22. बिलकुल नहीं बिखरने देना है .... सुंदर भाव

    ReplyDelete
  23. Perfect rhyming and the essence of our existence:)

    ReplyDelete