abhivainjana


Click here for Myspace Layouts

Followers

Wednesday, 16 May 2012

माँ के दूध का कर्ज़

माँ के दूध का कर्ज़

बेटा , माँ को तीर्थ के बहाने
बाहर ले गया
और दूर कहीं छोड़ आया
सुबह से शाम हुई
बेटा न आया
माँ अधीर हो उठी
बेटा-बेटा कह रोने लगी
फिर
बेहोश हो वहीं गिर पड़ी
भीड़ में से एक ने उसे उठाया
दौड़ अस्पताल पहुँचाया
रात भर इलाज करवाया
सुबह माँ की जब आँख खुली
पास एक अजनवी को पाया
माँ ने सूनी आँखों से उसे देखा
मानो मन ही मन दुआ देरही हो
फिर धीरे से उसका हाथ थामा
और बोली -बेटा तुम जो भी हो
आज तुमने अपनी माँ के दूध का कर्ज़ चुकाया है
अजनवी पैरों मैं गिर पड़ा और बोला
अभी बेटा होने का फर्ज़ बाकी है
मेरे साथ मेरे घर चलो, माँ.. 
मेरा घर खाली है
आप के आने से भर जाएगा….
**************
और इस तरह एक अजनवी बेटा बन कर बूढ़ी माँ को अपने घर ले गया, जिसे उसका अपना बेटा बोझ समझ कर बीच रास्ते में छोड़ गया था ……..
महेश्वरी कनेरी

36 comments:

  1. बहुत मर्मस्पर्शी प्रस्तुति....काश माँ का प्यार बेटे समझ पायें...बहुत प्रभावी रचना...आभार

    ReplyDelete
  2. अंतस को झकझोर देती हैं ऐसी घटनाएं ... आभार

    ReplyDelete
  3. बहुत मर्मस्पर्शी रचना,...बहुत सुंदर रचना,..अच्छी प्रस्तुति

    MY RECENT POST काव्यान्जलि ...: बेटी,,,,,

    ReplyDelete
  4. काश के ऐसे अजनबी बेटे हर बेसहारा माँ को मिलें.....
    मगर गिने-चुने ही होंगे ऐसे........

    मन भर आया महेश्वरी दी.
    बहुत सुंदर.

    सादर.

    ReplyDelete
  5. दीदी आपकी अभिव्यक्ति दिल को छू गई .... !!

    ReplyDelete
  6. उफ़-

    तीर्थ-यात्रा का बना, मनभावन प्रोग्राम |
    दादी सुमिरन में रमी, राम राम घनश्याम |

    राम राम घनश्याम, चले मथुरा से काशी |
    दादी गई भुलाय, बाल-मन परम उदासी |

    पढ़ी दुर्दशा विकट, भजन गाने पर रोटी |
    लाश रहे दफ़नाय, काट के बोटी-बोटी ||

    ReplyDelete
  7. बहुत मर्मस्पर्शी रचना ....

    ReplyDelete
  8. मार्मिक कविता...

    ReplyDelete
  9. दुनिया शायद ऐसे होनहार बेटों से ही चल रही है ...बहुत सुन्दर सन्देश

    ReplyDelete
  10. मार्मिक ...पर सन्देश देती आपकी लेखनी ....

    ReplyDelete
  11. अपने बेटे ने ठुकराया...गैर बेटे ने अपनाया...मर्मस्पर्शी!

    ReplyDelete
  12. मार्मिक, पर एक सच भी..

    ReplyDelete
  13. वाह .........दिल को छू गयी .........आज के समय को स्पष्ट करती ----------

    ReplyDelete
  14. सुन्दर भावपूर्ण प्रस्तुति...बहुत बहुत बधाई...

    ReplyDelete
  15. असल तस्वीर
    मार्मिक प्रसंग

    ReplyDelete
  16. दो रंग....
    भावुक करती रचना...
    सादर।

    ReplyDelete
  17. आज का सच है आपकी रचना।


    सादर

    ReplyDelete
  18. अजनवी पैरों मैं गिर पड़ा और बोला
    अभी बेटा होने का फर्ज़ बाकी है
    मेरे साथ मेरे घर चलो, माँ..
    मेरा घर खाली है
    आप के आने से भर जाएगा….

    Very touching creation...

    .

    ReplyDelete
  19. बहुत सुंदर रचना...भावपूर्ण प्रस्तुति.

    ReplyDelete
  20. आपकी पोस्ट 17/5/2012 के चर्चा मंच पर प्रस्तुत की गई है
    कृपया पधारें

    चर्चा - 882:चर्चाकार-दिलबाग विर्क

    ReplyDelete
  21. जिसे अपने ने गंवाया
    उसे गैर ने अपनाया
    तेरी माया भगवान
    कोई समझ न पाया....


    ऐसा भी हो रहा है ......
    शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  22. काश माँ हमेशा हंसती रहें ....

    ReplyDelete
  23. मर्मस्पर्शी प्रस्तुति

    ReplyDelete
  24. मन को छूने वाली रचना।

    ReplyDelete
  25. काश! हर माँ के साथ ऐसा होता ,शायद अनाथालयों की जरुरत नहीं होती ..... संवेदनशील अभिव्यक्ति ....

    ReplyDelete
  26. अभागे था वो, उसने माँ को बोझ समझा...
    पुत्र का फ़र्ज़ निभाते हुए एक अजनबी ने इस बात की पुष्टि कर दी कि दुनिया बहुत बड़ी है, और अच्छी भी...!

    ReplyDelete
  27. नै रचना प्रतीक्षित .प्रस्तुत के लिए आभार .
    कृपया यहाँ भी पधारें -
    सोमवार, 21 मई 2012
    यह बोम्बे मेरी जान (चौथा भाग )
    http://veerubhai1947.blogspot.in/
    तेरी आँखों की रिचाओं को पढ़ा है -
    उसने ,
    यकीन कर ,न कर .

    ReplyDelete
  28. मेरे साथ मेरे घर चलो, माँ..
    मेरा घर खाली है
    आप के आने से भर जाएगा….

    संवेदनशील अभिव्यक्ति ....

    ReplyDelete
  29. कल 23/05/2012 को आपके ब्‍लॉग की प्रथम पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.

    आपके सुझावों का स्वागत है .धन्यवाद!


    ... ... तू हो गई है कितनी पराई ... ...

    ReplyDelete
  30. sach hi hai ki panchon ungliya samaan nahi hoti. ek umeed ka rasta band hota hai to dusra kahin n kahin khul hi jata hai.

    bahut marmik prastuti.

    ReplyDelete
  31. संतति - ऐसी भी और वैसी भी!

    ReplyDelete
  32. दिल को छू गई यह रचना.

    ReplyDelete