abhivainjana


Click here for Myspace Layouts

Followers

Friday, 17 February 2012

खाली पन्ने


खाली पन्ने
बहते अश्रु जल ने शायद सब अक्षर मिटा दिए हैं
तभी तो जीवन की किताब के कुछ पन्ने खाली रह गए हैं
इन खाली पन्नो में फिर से कुछ लिख तो लूँ
लेकिन वो जज्बात वो अहसास कहाँ से लाऊँ
जिसे मैं आरंभ समझती हूँ
 वही अंत हो जाता है 
पन्ना फिर खाली का खाली रह जाता है
***********
महेश्वरी कनेरी

49 comments:

  1. जिसे मैं आरंभ समझती हूँ
    वही अंत हो जाता है
    पन्ना फिर खाली का खाली रह जाता है

    ....बहुत गहन अभिव्यक्ति....

    ReplyDelete
  2. खाली पन्ने भी कुछ बयाँ करते हैं...

    कोमल सा भाव लिए-
    बहुत सुन्दर रचना ...
    सादर नमन.

    ReplyDelete
  3. बहुत ही बढ़िया लिखा है आंटी।

    सादर

    ReplyDelete
  4. कल 18/02/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  5. जिसे मैं आरंभ समझती हूँ
    वही अंत हो जाता है
    पन्ना फिर खाली का खाली रह जाता है

    सुंदर अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  6. सूखे पन्नों के जोड़ में छिपी है, जीवन की नमी..

    ReplyDelete
  7. खाली पन्नों पर चाहे जो इबारत लिख लीजिये पर आरंभ तो करना ही होगा ...

    ReplyDelete
  8. जिसे मैं आरंभ समझती हूँ
    वही अंत हो जाता है
    पन्ना फिर खाली का खाली रह जाता ह…………हाय! ये कैसी बेबसी…………

    ReplyDelete
  9. आज गाने को दोहराने को जी कर रहा दीदी.... मेरी जीवन कोरा कागज कोरा ही रह गया....

    लेकिन वो जज्बात वो अहसास कहाँ से लाऊँ
    जिसे मैं आरंभ समझती हूँ
    वही अंत हो जाता है
    कहीं से आरंभ तो कीजिये.... :)

    ReplyDelete
  10. जीवन के कुछ पन्ने अधूरे रह जाते है,..
    सुंदर रचना,अच्छी प्रस्तुति

    new post...फुहार...तुम्हें हम मिलेगें...

    ReplyDelete
  11. बहुत सुंदर
    आपको पढना वाकई सुखद अनुभव है।

    ReplyDelete
  12. ज़िन्दगी की किताब में
    कई पन्ने होते हैं
    कुछ पर खुशी के गीत
    लिखे होते
    कुछ पर भयावह किस्से
    कुछ पन्ने रीते होते
    वक़्त निकलने के बाद
    लिखने की इच्छा पैदा करते

    ReplyDelete
  13. जन्म के साथ मृत्यु आरम्भ के साथ अंत.... यही है जीवन का सत्य ! सुंदर कविता...

    ReplyDelete
  14. यथार्थ को बयां करती हुई बेहतरीन रचना ....

    ReplyDelete
  15. बहुत सुंदर भाव हैं..बेहतरीन रचना |

    ReplyDelete
  16. आरम्भ का अधूरापन कहाँ भरता है

    ReplyDelete
  17. बहुत सुन्दर और सार्थक बातें, हार्दिक बधाई

    ReplyDelete
  18. जिसे मैं आरंभ समझती हूँ, वही अंत हो जाता है
    बहुत ही गहरी बात......

    ReplyDelete
  19. .बहुत गहन अभिव्यक्ति.यथार्थ को बयां करती हुई,,,,,,,,,

    ReplyDelete
  20. जिसे मैं आरंभ समझती हूँ
    वही अंत हो जाता है
    गहराई लिये हुए भाव

    ReplyDelete
  21. कमाल की बेहतरीन रचना.....
    कृपया इसे भी पढ़े-
    नेता- कुत्ता और वेश्या(भाग-2)

    ReplyDelete
  22. सृनात्मकता का शब्द-द्वंद्व. सुंदर रचना.

    ReplyDelete
  23. बहुत सुन्दर ,,
    दिल को छु लेनेवाले भाव...
    बेहतरीन रचना :-)

    ReplyDelete
  24. जिसे मैं आरंभ समझती हूँ
    वही अंत हो जाता है
    पन्ना फिर खाली का खाली रह जाता है
    ***********


    SACH LIKH HAI APNE ....YAHI HOTA HAI .

    MERE NAYE POST APKE LIYE KUCHH KHAS HAI .

    ReplyDelete
  25. bahut sundar rachna, aarambh aur ant ka sangam aur punh khali panne-------------

    ReplyDelete
  26. भावपूर्ण बहुत अच्छी अभिव्यक्ति,सराहनीय प्रस्तुति,..

    MY NEW POST ...सम्बोधन...

    ReplyDelete
  27. आपकी पोस्ट आज की ब्लोगर्स मीट वीकली (३१) में शामिल की गई है/आप आइये और अपने विचारों से हमें अवगत करिए /आप इसी तरह लगन और मेहनत से हिंदी भाषा की सेवा करते रहें यही कामना है /आभार /

    ReplyDelete
  28. इस तरह कोरे पन्ने पर भी कुछ अदृश्य पंक्तियां उभर आती हैं।

    बढि़या कविता।

    ReplyDelete
  29. उम्र के साथ वे एहसास वो ज़ज्बात भी खत्म हो जाते हैं ....

    जब हम थे तुम नहीं ...
    अब तुम हो हम नहीं .....

    ReplyDelete
  30. बहुत खूब लिखा है..बढि़या कविता,



    महाशिवरात्रि के पावन पर्व की हार्दिक शुभकामनाएं एक ब्लॉग सबका '

    ReplyDelete
  31. इन खाली पन्नो में फिर से कुछ लिख तो लूँ
    लेकिन वो जज्बात वो अहसास कहाँ से लाऊँ
    जिसे मैं आरंभ समझती हूँ
    वही अंत हो जाता है
    पन्ना फिर खाली का खाली रह जाता है
    बहुत सुन्दर एहसासात हैं इस रचना में कुछ इस तरह से -बगैर एहसास के जी रहा हूँ इसलिए कि जब कभी एहसास लौटें खैर मकदम कर सकूं .

    ReplyDelete
  32. आंसुओं से मिटे शब्द वापस नहीं आयें तो अच्छा है ...
    जीवन में कुछ नए शब्द तलाशने में आसानी हो जायेगी ... गहरे भाव लिए ...

    ReplyDelete
  33. इन खाली पन्नो में फिर से कुछ लिख तो लूँ
    लेकिन वो जज्बात वो अहसास कहाँ से लाऊँ
    जिसे मैं आरंभ समझती हूँ
    वही अंत हो जाता है
    पन्ना फिर खाली का खाली रह जाता है
    मन की स्लेट पर तो कुछ न कुछ लिखा रह ही जाता है .व्यतीत फिर व्यतीत है उसका स्मरण क्या ?

    ReplyDelete
  34. khaali panno si zindagi hamari, sadaiv adhuri lagti hai, jabki jivan ka pal pal hum jite hain. sach hai, har baar पन्ना फिर खाली का खाली रह जाता है. sundar abhivyakti, badhai.

    ReplyDelete
  35. बहुत बढ़िया,गहरे भाव,बेहतरीन अच्छी प्रस्तुति,.....

    MY NEW POST...आज के नेता...

    ReplyDelete
  36. कविता का भाव बहुत ही अच्छा लगा । मेरे पोस्ट "भगवती चरण वर्मा" पर आपका स्वागत है । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  37. बहुत सुंदर भाव हैं..बेहतरीन रचना, इस रचना के लिए आभार

    ReplyDelete
  38. जिसे मैं आरंभ समझती हूँ
    वही अंत हो जाता है
    पन्ना फिर खाली का खाली रह जाता है
    bahut khoob

    ReplyDelete
  39. खुबसूरत अभिव्यक्ति ...... स:परिवार होली की हार्दिक शुभकामनाएं.....

    ReplyDelete
  40. **♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**
    ~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~
    *****************************************************************
    ♥ होली ऐसी खेलिए, प्रेम पाए विस्तार ! ♥
    ♥ मरुथल मन में बह उठे… मृदु शीतल जल-धार !! ♥



    आपको सपरिवार
    होली की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं !
    - राजेन्द्र स्वर्णकार
    *****************************************************************
    ~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~
    **♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**

    ReplyDelete
  41. आदरणीय महेश्वरी जी
    आजकल आप दिखती नहीं....कुछ नयी पोस्ट भी नहीं...
    आपको होली की शुभकामनाएँ देती हूँ.....
    सादर.

    ReplyDelete
  42. बढ़िया अभिव्यक्ति ....
    रंगोत्सव पर आपको शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  43. मेरे सपने ,हर दम अपने ,

    जागी आँखों का खाब बने

    दीदी गेट वेळ सून ..

    बिन सेहत सब सून ...

    ReplyDelete
  44. bahut achchi abhiwaykti.swasthya ka dhyan rakhiye .thanks.

    ReplyDelete